रिप्ड जींस पर बयान देकर चर्चा में आए उत्तराखंड के सीएम को चार महीने में छोड़नी पड़ी कुर्सी, देर रात राज्यपाल को सौंपा इस्तीफा, जानिए क्या है वजह

रिप्ड जींस पर बयान देकर चर्चा में आए  उत्तराखंड के सीएम को चार महीने में छोड़नी पड़ी कुर्सी, देर रात राज्यपाल को सौंपा इस्तीफा, जानिए क्या है वजह

DEHRADOON : उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत ने अपने चार माह के कार्यकाल के बाद इस्तीफा (Tirath Singh Rawat resigned) दे दिया है। देर रात लगभग 11 बजे उन्होंनें राजभवन जाकर गवर्नर बेबी रानी मौर्या को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। इसके साथ ही पिछले कुछ दिनों से चल रहा सस्पेंस खत्म हो गया है। अपने इस्तीफे के बाद तीरथ सिंह रावत ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'मैंने संवैधानिक संकट की वजह से राज्यपाल को इस्तीफा सौंप दिया है। इस दौरान उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री के तौर पर सेवाएं देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा का आभार किया।

रिप्ड जींस पर कमेंट को लेकर आए थे चर्चा में

अपने चार माह के छोटे से कार्यकाल में तीरथ सिंह रावत अपने काम से ज्यादा बयानों के कारण चर्चा में रहे। जिसमें सबसे ज्यादा विवाद लड़कियों के फटे हुए जिंस पहनने को लेकर था। उन्होंने इसे भारतीय संस्कृति के खिलाफ बताया था। जिसको लेकर देश भर में उन्हें आलोचना का सामना करना पड़ा था। इसके अलावा कुंभ मेले में फर्जी कोरोना टेस्ट को लेकर भी पूर्व सीएम पर ठिकरा फोड़ दिया था, जो कि विवाद का बड़ा कारण बन गया था।

सात-आठ माह के लिए नया सीएम

अब चूंकि तीरथ रावत ने उप चुनाव नहीं होने के कारण इस्तीफा दे दिया है, ऐसे में उत्तराखंड को नया मुख्यमंत्री मिलने वाला है। शनिवार को देहरादून में बीजेपी विधायक दल की बैठक बुलाई गई है। जहां बीजेपी विधायकों में से ही किसी एक को मुख्यमंत्री चुना जाएगा। राज्य में अगले साल फरवरी-मार्च महीने में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में नए मुख्यमंत्री का कार्यकाल महज 7-8 महीने का रहेगा।


 
बीजेपी विधायकों में से ही होगा कोई सीएम
 बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि कोविड के चलते परिस्थितियां ऐसी बन गई थीं कि मुख्यमंत्री को इस्तीफा देना पड़ा। चुनाव आयोग ने साफ कर दिया था कि ऐसी महामारी में वह उपचुनाव नहीं कराएगा। इससे राज्य में संवैधानिक संकट हो सकता था। इसलिए मुख्यमंत्री ने इस्तीफा दिया है। उन्होंने कहा कि शनिवार को बीजेपी के विधायक दल की बैठक होगी और विधायकों में से ही किसी को मुख्यमंत्री चुना जाएगा।




Find Us on Facebook

Trending News