विकास दुबे केस को पढेंगे आईएस, आईपीएस, ट्रेनिंग और पाठ्यक्रम को बेहतर बनाने के लिए सरकार ने दिया सुझाव

विकास दुबे केस को पढेंगे आईएस, आईपीएस, ट्रेनिंग और पाठ्यक्रम को बेहतर बनाने के लिए सरकार ने दिया सुझाव

DESK: उत्तर प्रदेश के कानपूर जिले का मोस्ट वांटेड  हिस्ट्रीशीटर की एक नई और दिल्चाप्स बातें सामने आई है.विकास दुबे और उसकी हरकतों से परेशान पूरा शहर आज राहत की सांस लेता नजर आ रहा है.ऐसे में विकास दुबे केस को अब पुलिस अकैडमी में आईपीएस और पीपीएस अधिकारियों को पढ़ाया जाएगा. इसके साथ ज्योति हत्याकांड को भी किताबों के सिलेबस में शामिल किया जाएगा. दरअसल, आईपीएस और पीपीएस अधिकारियों की ट्रेनिंग और पाठ्यक्रम को बेहतर बनाने के लिए एक कमेटी गठित की गई थी, जिसने यह सुझाव सरकार को दिया है. इस सुझाव को शासन के पास मंजूरी के लिए भेजा गया है, जिसके बाद इसे नवंबर के अंत तक पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा.

नए बैच के आईपीएस और पीपीएस अफसर इसको पढ़कर बेहतर पुलिसिंग के गुर सीखेंगे. स्टडी के मुताबिक, बिकरू कांड में पुलिस हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गई थी तभी उसने ताबड़तोड़ हमला कर 8 पुलिस वालों को मार दिया था. इस पूरे प्रकरण में पुलिस की तरफ से दबिश और जांच की कई खामियों का खुलासा हुआ था.

इस घटनाक्रम की स्टडी की गई और इन खामियों के बारे में बताने, इनको दोबारा न दोहराने और इनका कैसे मुकाबला किया जाए, इसकी एक विस्तृत रिपोर्ट शासन को भेजी गई थी. इस रिपोर्ट के जरिए अफसरों को ज्यादा बेहतर ढंग से काम करने लायक बनाने के लिए इसे पाठ्यक्रम में जोड़ने की कवायद की जा रही है. 

इसी साल 2 जुलाई को कानपुर में विकास दुबे और उसके गैंग ने पुलिसकर्मियों पर हमला किया था, जिसमें आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे. इसी के बाद विकास दुबे फरार हो गया और करीब एक हफ्ते के बाद जब उसे मध्य प्रदेश से पकड़ा गया तो कानपुर लाते वक्त पुलिस एनकाउंटर में उसे ढेर कर दिया गया. पुलिस का कहना था कि कानपुर के पास विकास दुबे ने पुलिस का हथियार छीनकर भागने की कोशिश की थी, जिसके बाद मुठभेड़ हुई और विकास दुबे ढेर हुआ.

Find Us on Facebook

Trending News