अग्निपथ योजना के विरोध में हिंसक प्रदर्शन करने वालों की खैर नहीं, चिन्हित कर की जाएगी सख्त कार्रवाई

अग्निपथ योजना के विरोध में हिंसक प्रदर्शन करने वालों की खैर नहीं, चिन्हित कर की जाएगी सख्त कार्रवाई

पटना. अग्निपथ योजना के अंतर्गत अग्निवीरों की सेवावधि 4 साल किए जाने को लेकर देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हो रहा है। बिहार के गया, मुजफ्फरपुर समेत कई जगहों पर इसको लेकर आगजनी, पत्थरबाजी की गई। इसके बाद प्रशानिक अधिकारियों को अलर्ट मोड पर रखा गया है। एडीजी, लॉ एंड ऑर्डर संजय सिंह ने एक बयान जारी कर कहा कि कानून हाथ में लेने वालों और तोड़फोड़ करने वालों को चिन्हित कर उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।


मिली जानकारी के अनुसार अग्निपथ योजना के विरोध प्रदर्शन में कई ट्रेनों को आग के हवाले कर दिया गया है। प्रदर्शनकारी सड़क से लेकर रेलवे ट्रैक पर उग्र प्रदर्शन किया। ऐसे में ट्रेनों का परिचालन सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। गुरुवार को 4 रेल डिवीजन के 8 रेल रूटों को बाधित किया गया। इसमें दानापुर, पंडित दीनदयाल उपाध्याय, समस्तीपुर और सोनपुर रेल डिवीजन शामिल हैं।

अग्निवीर के खिलाफ छात्रों का गुस्सा छपरा में भी फूटा और गुरुवार को सुबह 9:00 बजे से छात्रों ने शहर और रेलवे स्टेशनों पर में जो उत्पात मचाना शुरू किया, वह दिन के 1:00 बजे तक जारी रहा। पूरे शहर को आग के हवाले कर दिया। चौक चौराहे पर आगजनी की दुकानों में तोड़फोड़ की स्टेशनों पर तोड़फोड़ की चार ट्रेनों और इंजनों को आग के हवाले कर दिया। छपरा जंक्शन के दो, तीन ,चार और पांच प्लेटफार्म पर जमकर उत्पात किया रोड़ेबाजी बाजी की। स्थिति की भयावहता को भागते हुए रेलवे पुलिस ने 40 से 50 फायरिंग कर छात्रों को खदेड़ने का प्रयास किया, लेकिन वे जवाब स्वरूप रोड़े बरसाने लगे।



Find Us on Facebook

Trending News