मूवी Review: लोगों के उम्मीद पर नहीं खड़ा उतरा 'विश्वरूपम 2', कमजोर कहानी

मूवी Review: लोगों के उम्मीद पर नहीं खड़ा उतरा 'विश्वरूपम 2', कमजोर कहानी

15 अगस्त के मौके पर कमल हसन की देशभक्त फिल्म विश्वरूपम रिलीज हो गयी है. इस फिल्म का साल 2013 में 'विश्वरूपम' के नाम से प्रीक्वल आया था। विश्वरूपम 2 विश्वरूपम से बिल्कुल अलग है. फिल्म के सभी किरदार 'विश्वरूपम' से मिलते-जुलते हैं, जिसमें विशाम अहमद कश्मीरी (कमल हासन) को कई आतंकियों के बीच दिखा गया है । मूवी में एक्शन तो है लेकिन कहानी ही कमजोर है.


फिल्म की कहानी की बात करे तो, कहानी रॉ एजेंट मेजर विशाम अहमद कश्मीरी (कमल हासन) की है जिनकी पत्नी निरूपमा (पूजा कपूर ) हैं. विशाम जब अलकायदा के मिशन से विश्वरूपम 1 में निकलता है तो वहीं से यह कहानी शुरू होती है .विशाम को इस बार भी मिशन के तहत उमर कुरैशी (राहुल बोस) के द्वारा फैलाए गए आतंकवाद को खत्म करना है. मिशन में उसकी मुलाकात अलग-अलग तरह के लोगों और घटनाओं से होती है, जिसका सामना करते हुए विशाम को काफी तकलीफों का सामना भी करना पड़ता है, इसी बीच कहानी में सलीम (जयदीप अहलावत) विशाम की मां (वहीदा रहमान), कर्नल जगन्नाथ( शेखर कपूर) और बाकी किरदारों की भी एंट्री होती है. अब मिशन खत्म होता है या नहीं इसके लिए आपको मूवी देखना होगा।

कमल हसन की एक्टिंग कबीले तारीफ है इस उम्र में भी उन्होंने बहुत अच्छी एक्टिंग की है. फिल्म का डायरेक्शन और सिनेमेटोग्राफी भी काफी अच्छा है. एक्शन के मामले में भी फिल्म को फूल स्कोर। 

मूवी की कमजोरी की बात करें तो मूवी काफी कन्फुसिंग है बार-बार फ्लैशबैक दिखाया जाता है.  फिल्म देखने के दौरान आपको इसके पहले भाग से पूरी तरह से परिचित होना चाहिए. यह फिल्म आपको टिपिकल साउथ इंडिया की फिल्मों की भी याद दिलाती है. कमल हासन के अलावा फिल्म के बाकी किरदारों को और भी ज्यादा सजाया और संवारा जा सकता था

Find Us on Facebook

Trending News