मशहूर फोटो जर्नलिस्ट एके दुबे के निधन पर शोक की लहर, CM नीतीश ने भी जताया दुख

मशहूर फोटो जर्नलिस्ट एके दुबे के निधन पर शोक की लहर, CM नीतीश ने भी जताया दुख

पटना. बिहार के जाने-माने फोटो जर्नलिस्ट अजय प्रकाश दुबे का निधन हो गया है। उनके निधन पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शोक प्रकट किया है। सीएम नीतीश ने अपने शोक संदेश में कहा कि स्व0 अजय प्रकाश दुबे समर्पित पत्रकार थे और अपने दायित्वों का बखूबी निर्वाह किया करते थे। वे लम्बे समय तक अंग्रेजी दैनिक अखबार 'हिन्दुस्तान टाइम्स से जुड़े रहे थे। उनके निधन से फोटो जर्नलिज्म को गहरा आघात पहुंचा है। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की चिर शांति तथा उनके परिजनों को दुख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

एक दुबे के जानने वाले पत्रकार संतोष सिंह बताते हैं कि ए पी दुबे के पिता आर एन दुबे नहीं चाहते थे कि उनका बेटा फोटोग्राफर बने। 'आरएनडी' उन दिनों दिल्ली से प्रकाशित दी हिंदुस्तान टाईम्स के सम्पादकीय विभाग में कार्यरत थे। 'आरएनडी' और उनकी पत्नी, यानी 'एपी' की मां कमला देवी की इक्षा थी कि उनका बेटा बेहतरीन अधिकारी बने। उन दिनों वे दिल्ली के यमुना पार में लक्ष्मी नगर इलाके की तंग गलियों में रहते थे। लेकिन समय कुछ और चाह रहा था। उन दिनों दी हिंदुस्तान टाईम्स, दिल्ली संस्करण के फोटो विभाग के प्रमुख थे त्याग राजन साहब। त्याग राजन साहब 'एपी' में वे सभी गुण देख रहे थे, जो किसी भी पत्र-पत्रिका के फोटोग्राफर में चाहिए होता है। 'एपी' की अंग्रेजी भी 'ठीक-ठाक' थी उन दिनों। आम तौर पर भारत में अपवाद छोड़कर, फोटोग्राफर की अंग्रेजी भाषा बहुत बेहतर नहीं होती, और यह उस समय सामने दिखने लगता है जब वह संध्या काल में सम्पादकीय विभाग में फोटो प्रस्तुत करता है और 'कैप्शन' लिखने के लिए अपनी निगाहों को इधर-उधर करने लगता है कि कौन खाली है, जो कैप्शन लिख दे।

तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी का हँसता-मुस्कुराता शरीर को पार्थिव हुए दो साल भी नहीं हुआ था। साल सन 1986 का शुरूआती महीना था। पटना से प्रकाशित 'दी सर्चलाईट' और 'प्रदीप' अख़बारों का दिन फिर गया था। 'दी सर्चलाइट' और 'प्रदीप' पटना की सड़कों पर 'दी हिंदुस्तान टाईम्स' और 'हिंदुस्तान' के रूप में आने वाला था। पूरे प्रदेश के साथ-साथ बुद्धमार्ग स्थित हिंदुस्तान टाइम्स के दफ्तर के सम्पादकीय विभाग में 'टीम' बनना प्रारम्भ हो गया था। उन दिनों सर्चलाइट के लिए 'अशोक कर्ण' फोटोग्राफी करते थे। 

त्याग राजन के कहने पर, उनके पहल से 'एपी' 'पाना इण्डिया' के लिए कार्य शुरू कर दिए थे। 'पाना इण्डिया' के बाद त्याग राजन साहब उन्हें कस्तूरबा गाँधी मार्ग स्थित हिंदुस्तान टाइम्स में ले आये और अरुण जेटली के साथ 'एपी' को पटना संस्करण के लिए भेज दिए। साल 1986 था। उन दिनों पटना की सड़कों पर विक्रम कुमार, अरुण जेटली, एपी डूबे, अशोक कर्ण, कृष्ण मुरारी किशन, कृष्ण मोहन शर्मा, दीपक कुमार, राजीव, पी के डे, ललन कुमार आदि फोटोग्राफरों की साईकिल, स्कूटर, मोटर साईकिल दौड़ा करती थी। एपी के पास भी आसमानी रंग का एक स्कूटर था और वह टेढ़ा होकर बाएं हाथ झुककर बैठा करता था और कंधे पर ब्राउन रंग का वाटर-प्रूफ कैमरा बैग लटका होता था। साथ ही, आखों पर चश्मा। 

उन दिनों की बहुत सारी कहानियां हैं 'एपी' से सम्बंधित लेकिन सबसे महत्वपूर्ण कहानी "दो दुबे और एक मुर्गा का टांग" वाला फोटो-कहानी है जो न केवल पटना की सड़कों पर, बिहार के पाठकों के घरों में, बल्कि सम्पूर्ण देश में चर्चा का विषय रहा जब वह प्रथम पृष्ठ पर चार कॉलम में "सन्डे मील" के रूप में प्रकाशित हुआ। 

उस छवि की विशेषता यह थी कि तत्कालीन मुख्यमंत्री बिंदेश्वरी दुबे 'देशी मुर्गा' का एक बेहतरीन 'लम्बा टंगरी अपने दांतों से दबाकर बाएं हाथ से सफ़ेद चीनी मिटटी का प्लेट पकड़े और दाहिने हाथ से टंगरी को खींच रहे थे। सत्ता में भकले बहुत मजबूत थे, लेकिन उम्र अधिक होने से दांत की शक्ति भी जा रही थी। इसी बीच 'एपी' के कैमरे के लेंस की नजर 'टंगरी' पर पड़ी। तक्षण 'लेंस' 'मुर्गा का टंगरी' बिंदेश्वरी डूबे का दांत', दोनों जबड़े, खुले मुंह और टंगरी से टपकता रस जैसे ही पंक्तिबद्ध हुआ, 'एपी' क्लिक क्लिक क्लिक कर दिए। तीन शॉट्स ही बने थे, उसमें एक शॉट्स में सभी गुण थे। दूसरे दिन अख़बारों के पन्नों पर और फिर दो डूबे में टक्कड़ । रेफरी का काम तत्कालीन डीजीपी ज्योति सिन्हा कर रहे थे लेकिन बहुत ही शालीनता के साथ। 

उन दिनों तस्वीरों के माध्यम से हिंदुस्तान टाइम्स में ऐसी अनेकानेक कहानियां प्रकाशित हुई थी जो अख़बार के मालिक, सम्पादकीय विभाग, संवाददाता और प्रदेश के पत्र सूचना कार्यालय के अधिकारियों में छत्तीस का आंकड़ा बन गया था। फिर भी अधिकारियों में, चाहे खाकी वर्दी वाले हों या सफ़ेदपोश अधिकारी, सभी में 'चारित्रिक मोल' था। आज वह जमाना चला गया। यह मैं नहीं, 'एपी' कहे थे। 'एपी' यह भी कहे थे कि बिंदेश्वरी दुबे वाली तस्वीर के प्रकाशन के बाद भले तत्कालीन डीजीपी ज्योति सिन्हा प्रशासनिक रूप से अपना डंडा चला रहे थे, लेकिन 'संबंधों'' में कभी भी केश के बराबर भी 'बदलाब' नहीं आया था। उस समय क्या मुख्यमंत्री, क्या मंत्री, क्या अधिकारी - सभी पत्रकारों को, छायाकारों को 'उनके खिलाफ लिखने अथवा तस्वीर छपने के बाद भी', मधुर सम्बन्ध रहते थे। आज जो दृश्य है प्रदेश की पत्रकारिता में वह कष्टदायक है।"

Find Us on Facebook

Trending News