कुशवाहा की CM नीतीश से क्या डील हुई? मुख्यमंत्री के सामने खुद किया खुलासा

कुशवाहा की CM नीतीश से क्या डील हुई? मुख्यमंत्री के सामने खुद किया खुलासा

पटनाः JDU दफ्तर में भरत मिलाप हुआ। बड़े भाई ने छोटे भाई को गले लगा लिया। इस तरह से उपेन्द्र कुशवाहा आज से जेडीयू के हो गये। इसी के साथ RLSP का जेडीयू में विलय हो गया। JDU  प्रदेश कार्यालयमें आयोजित मिलन समारोह में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने छोटे भाई उपेन्द्र कुशवाहा को फिर से पार्टी में शामिल कराया। सबसे बड़ी बात यह रही कि इस कार्यक्रम में जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह को छोड़ अन्य सभी नेता मौजूद रहे. बताया जाता है कि उपेन्द्र कुशवाहा के जेडीयू में शामिल कराने के निर्णय से आरसीपी सिंह असहज हैं. लिहाजा उन्होंने मिलन कार्यक्रम से अपने आप को अलग रखने का निर्णय लिया है।

जेडीयू में शामिल होने के बाद उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि यह दल हमारे लिये नया नहीं है। आज का मिलन तो सिर्फ औपचारिकता थी।जब हम अलग दल बनाये तो कई उतार-चढ़ाव हुए। इस बार के चुनाव में जनता का सीधा आदेश हुआ कि उपेन्द्र कुशवाहा जी आप बिना देर किये नीतीश कुमार से साथ हों। हमलोगों ने काफी समय तक नीतीश कुमार के साथ मिलकर संघर्ष किया था। हम लोग वैसे लोगों के मंसूबा को कामयाब नहीं होने देंगे जो नीतीश कुमार को कमजोर करने की ताक में थे। इसलिए जनता के आदेश पर हम आज से नीतीश कुमार के नेतृत्व में काम करेंगे। आज से पूरी आरएलएसपी जेडीयू का हो गया है। 

क्या तय हुआ है ? 

उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि हम बिना शर्त घऱ में लौटे हैं। नीतीश कुमार के नेतृत्व में सेवा करने का फैसला लिया है। लोग पूछ रहे कि क्या तय हुआ है ,लेकिन यह गलत बात है। आगे नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार की सेवा करेंगे। जीवन का जो भी शेष है अब इनके नेतृत्व में काम करेंगे। नीतीश कुमार जो भी जवाबदेही देंगे वो काम करेंगे,अगर नहीं देंगे फिर भी हर कार्यकर्ता काम करेगा। पार्टी को और मजबूती देने की जरूरत है। कुशवाहा ने कहा कि अब जेडीयू के हो गये हैं । फिर से नंबर बन पार्टी बनाने का काम करना है। कुशवाहा ने कहा कि नीतीश जी आप काम करते रहिए,हम सब आपके साथ खड़े हैं। 

Find Us on Facebook

Trending News