कहां है एके-47....न असली वाला मिला और न प्लास्टिक वाला हीं...जमीन खा गई या आसमान निकल गया ?

कहां है एके-47....न असली वाला मिला और न प्लास्टिक वाला हीं...जमीन खा गई या आसमान निकल गया ?

PATNA: बाहुबली विधायक अनंत सिंह के धुरविरोधी विवेका पहलवान के घर में दिखा दो-दो एके-47 कहां गया ...अबतक न तो असली वाला मिला और न हीं प्लास्टिक वाला...अब सवाल उठता है कि आखिर एके-47 गया कहां...प्लास्टिक वाला के पेंच में फंसा एके-47 को क्या जमीन खा गई या आसमान निकल गया ?

आम लोगों के दिमाग में यह सवाल लगातार कौंध रहा है कि आखिर पटना पुलिस प्लास्टिक वाला एके-47 भी बरामद क्यों नहीं कर पा रही है? कहने को छापेमारी की दावेदारी प्रतिदिन पेश की जा रही है लेकिन नतीजा ढाक के तीन पात हो रहे हैं।हद है कि अपराधी दिनदहाड़े दोनों हाथों में एके-47 लहराकर पुलिस को चुनौती दे रहे हैं।इतना हीं नहीं पुलिस को यह भी मालूम है कि जहां एके-47 लहराया गया वो घर किसका है,और अत्धुनिक लहराने वाला है कौन.... उसके बावजूद 5 दिन बाद भी पुलिस खाली हाथ है।

आखिर पुलिस पकड़ना नहीं चाहती या फिर अपराधी पकड़ में नहीं आ रहे।सवाल तो लोग पूछेंगे हीं? बले हीं कप्तान से लेकर कारिंदे तक को बुरा लगे।प्लास्टिक वाला भी पकड़ लेते तो लोगों को महसूस होता कि पटना पुलिस एके-47 लहराने वाले वीडियो मामले में सक्रिय है।लेकिन अब तक ऐसा दिख नहीं रहा।हद तो तब हो गया जब अपराधियों ने एके-47 वाला वीडियो वायरल करने के बाद अन्य हथियारों के साथ एक और वीडियो वायरल कर दिया।पुलिस के मुंह पर लगातार तमाचा पड़ने के बाद भी पता नहीं कौन सा दबाव काम कर रहा है जिसकी वजह से असली एके-47 या पिर प्लास्टिक वाला की बरामदगी नहीं हो पा रही है। 

कप्तान का दावा- यूके-कनाडा से भी तेजतर्रार है हामारी पुलिस

अपने आप को यूके और कनाडा से भी तेजतर्रार मानने वाली पुलिस ने न तो असली एके-47 को ढूंढ़ने में कामयाब हुई है और न नकली प्लास्टिक वाला हीं।पुलिस तो उस शख्स को भी खोजने में विफल साबित हो रही है जिसके हाथ में एक साथ दो-दो एके-47 दिख रहे थे।विवेका पहलवान के घर में एक दो-दो एके-47 लहराए जाने का वीडियो आए हुए 120 घंटे से अधिक बीत चुके हैं लेकिन पटना की तेजतर्रार पुलिस दो कदम भी आगे नहीं बढ़ सकी है।मीडिया में बवाल मचने के बाद दबाब में पुलिस ने विवेका पहलवान के भतीजा समेत तीन के खिलाफ बाढ़ थाने में केस तो दर्ज कर लिया।दिखावे के लिए कई जगहों पर छापेमारी भी कराई लेकिन नतीजा ढाक के तीन पात हीं निकला।

क्या कहते हैं एडीजी

इस मामले में एडीजी हेडक्वार्टर ने कहा है कि मामले की जांच चल रही है और पुलिस इस मामले में कार्रवाई में भी जुटी है।

Find Us on Facebook

Trending News