किशनगंज में कौन कर रहा है कानून का उल्लंघन और क्यों चुप है प्रशासन?

किशनगंज में कौन कर रहा है कानून का उल्लंघन और क्यों चुप है प्रशासन?

KISHANGANJ: प्लास्टिक की थैलियां धरती पर प्रदूषण की बहूत बड़ी वजह है. इससे मिट्टी और हवा दोनों को नुकसान पहुँचता है. प्लास्टिक की थैलियां जहाँ तहां फेंके जाने से भूमि प्रदूषण होती है. जबकि इसे जलाने से यह मिट्टी और हवा दोनों को प्रदूषित कर देता है. धरती के लिए घातक होने की वजह से पटना हाईकोर्ट ने प्लास्टिक की थैलियों के उपयोग पर रोक लगा दिया है. 

अब प्लास्टिक की थैलियों मे समान बेचे जाने और खरीदारी करते पकड़े जाने पर जुर्माना का प्रावधान है. किशनगंज में प्लास्टिक की थैलियों के उपयोग से होनेवाले नुकसान को लेकर नगर परिषद की ओर से लोगों और दुकानदारों को जागरूक किया गया. कई दुकानों मे छापेमारी कर जुर्माने की वसूली की गई. इसके बावजूद अब दुकानदार कोर्ट के आदेश को अनदेखा कर रहे हैं. अब किशनगंज में धड़ल्ले से प्लास्टिक की थैलियों का इस्तेमाल किया जा रहा है. कई दुकानदारों से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया की कहा की हम नही बता सकते. हम तो बस सामान बेचते है. 

जाहिर है की पटना हाईकोर्ट के आदेश के बाद प्लास्टिक की थैलियां मिलना मुश्किल है. लेकिन बंगाल की सीमा यहाँ से कुछ ही दूरी पर है. वहाँ से थैलियाँ लाकर धडल्ले से उसका उपयोग किया जाता है. यह सरासर हाईकोर्ट के नियमों का उल्लंघन है.

किशनगंज से साजिद हुसैन की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News