कट्टर सियासी दुश्मन रहे आनंद मोहन की पैरोल को लेकर पप्पू यादव ने आखिर यह क्यों कह दिया...

कट्टर सियासी दुश्मन रहे आनंद मोहन की पैरोल को लेकर पप्पू यादव ने आखिर यह क्यों कह दिया...

पटना. जाप पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने आनंद मोहन की पैरोल पर खुशी जताई है। पप्पू यादव ने कहा कि आनंद मोहन को पैरोल मिलने से मुझे अंतरिक खुशी है। अपने घर परिवार के समारोह में शामिल होने के लिए न्यायपालिका ने उनकी अर्जी मंजूर की है। उन्होंने कहा कि जहां तक आनंद मोहन जी परे लगे आरोपों की बात है, तो मुझे लगता है कि किसी घटना में परिस्थितियों को भी संज्ञान में लिया जाना चाहिए। आनंद मोहन का उद्देश्य हत्या का नहीं रहा होगा। इसलिए परिस्थितियों को समझते हुए आनंद मोहन को पैरोल पर नहीं बल्कि पूर्णतः मुक्त कर देना चाहिए, ताकि वह अपनी ऊर्जा परिवार और समाज की सेवा में लगाएं।

बिहार के बाहुबली नेताओं में शुमार आनंद मोहन को 15 दिन की पैरोल मिली है। उनकी मां गीता देवी के स्वास्थ्य कारणों की वजह से उन्हें 15 दिनों की पैरोल मिली है। सहरसा जेल से बाहर आते ही उनका पुराना रंग दिखा। पत्नी लवली आनंद समेत हजारों लोगों ने आनंद मोहन को जेल से रिसीव किया। जेल से बाहर निकलने के बाद आनंद मोहन ने मीडिया से कहा कि शुभ काम से बाहर निकले हैं। सबको आजादी अच्छी लगती है। जितने दिन बाहर रहूंगा समर्थकों और सभी अपील है कि मेरा साथ दें। आनंद मोहन ने कहा कि ये अस्थाई मुक्ति है। इसमें बहुत कुछ बंधा हुआ है।

कोसी की धरती पर पैदा हुए आनंद मोहन सिंह बिहार के सहरसा जिले के पचगछिया गांव के रहने वाले हैं। पनगछिया में 26 जनवरी 1956 को आनंद मोहन का जन्म हुआ था। उसके दादा राम बहादुर सिंह स्वतंत्रता सेनानी थे। राजनीति से उनका परिचय 1974 में लोकनायक जयप्रकाश नारायण के संपूर्ण क्रांति आंदोलन के दौरान हुआ। इसके लिए उन्होंने अपना कॉलेज तक छोड़ दिया। इमरजेंसी के दौरान 2 साल जेल में भी रहे। इसके बाद उनकी राजनीतिक करियर की शुरुआत हुई। बिहार में 80 के दशक में आनंद मोहन सिंह बाहुबली नेता बन चुके थे। उन पर कई मुकदमे भी दर्ज हुए। 1983 में पहली बार तीन महीने के लिए जेल जाना पड़ा। 1990 के विधानसभा चुनाव में आनंद मोहन जनता दल के टिकट पर महिषी से चुनाव लड़े और कांग्रेस के लहतान चौधरी को 62 हजार से ज्यादा वोट से हराया।

एक समय आनंद मोहन को लालू यादव के विकल्प के रूप में देखा जाने लगा था। हालांकि 1994 में आनंद मोहन के दोस्त छोटन शुक्ला की हत्या के बाद सब कुछ बदल गया। छोटन शक्ला के अंतिम संस्कार में आनंद मोहना भी पहुंचे थे। छोटन शुक्ला की अंतिम यात्रा के बीच से एक लालबत्ती की गाड़ी गुजर रही थी, जिसमें उस समय के गोपालगंज के डीएम जी कृष्णैया सवार थे। लालबत्ती की गाड़ी देख भीड़ भड़क उठी और जी कृष्णैया को पीट-पीटकर मार डाला। जी कृष्णैया की हत्या का आरोप आनंद मोहन पर लगा। आरोप था कि उन्हीं के कहने पर भीड़ ने उनकी हत्या की। आनंद की पत्नी लवली आनंद का नाम भी आया।

डीएम की हत्या मामले में आनंद मोहन को जेल हुई। 2007 में निचली अदालत ने उन्हें मौत की सजा सुना दी। आनंद मोहन देश के पहले पूर्व सांसद और पूर्व विधायक हैं, जिन्हें मौत की सजा मिली। हालांकि, पटना हाईकोर्ट ने दिसंबर 2008 में मौत की सजा को उम्रकैद में बदल दिया। बाद में सुप्रीम कोर्ट ने भी जुलाई 2012 में पटना हाईकोर्ट के फैसले को बरकरार रखा।

Find Us on Facebook

Trending News