जदयू के इनकार के बाद भी सीएम नीतीश के पीएम कैंडिडेट पर राजद इतना उत्सुक क्यों? निशाना कहीं और तो नहीं

जदयू के इनकार के बाद भी सीएम नीतीश के पीएम कैंडिडेट पर राजद इतना उत्सुक क्यों? निशाना कहीं और तो नहीं

पटना. बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद सीएम नीतीश को लगातार 2024 के लोकसभा चुनाव में पीएम उम्मीदवार के रूप में देखा जा रहा है। इसको लेकर सहयोगी दल राजद भी माहौल बनाने में जुट गयी है। हालांकि सीएम नीतीश ने कई बार साफ कर दिया है कि वे पीएम के उम्मीदवार नहीं है। फिर भी राजद की ओर से लगातार कहा जा रहा है कि नीतीश कुमार को पीएम उम्मीदवार होना चाहिए। ऐसे में सवाल उठता है कि राजद सीएम नीतीश को पीएम उम्मीदवार को लेकर इतना उत्सुक क्यों है?

तेजस्वी के हाथ में आएगी बिहार की बागडोर?

दरअसल, बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद राजनीतिक गलियारे में चर्चा है कि नीतीश कुमार अब केंद्र की राजनीति में जाएंगे और बिहार को तेजस्वी संभालेंगे। हालांकि इसका खंडन भी किया जा चुका है। वहीं विशेषज्ञों का मानना है कि राजद, बिहार की बागडोर तेजस्वी के हाथ में सौंपने के लिए प्रयास कर रही है। इसी कड़ी में राजद के नेताओं द्वारा लागातार माहौल बनाया जा रहा है कि नीतीश कुमार को पीएम उम्मीदवार घोषित किया जाए, जिससे तेजस्वी का रास्ता आसान हो जाए।

जदयू के इनकार के बाद राजद इतना उत्सुक क्यों?

आज भी जब राजद प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह से मीडिया ने नीतीश कुमार के प्रधानमंत्री कैंडिडेट को लेकर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि राजद नीतीश कुमार को पीएम उम्मीदवार मानती है। वहीं आज ही जदयू के संसदयी बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष से पीएम उम्मीदवार को लेकर पूछा गया तो उन्होंने कहा कि पार्टी ने साफ तौर पर कहा है कि नीतीश कुमार प्रधानमंत्री का उम्मीदवार नहीं है। ऐसे में सवाल उठता है कि राजद का निशाना कहीं मुख्यमंत्री पद पर तो नहीं है? 

लालू नीतीश को पीएम उम्मीदवार माना- जगदानंद

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को 2024 के लोकसभा चुनाव प्रधानमंत्री उम्मीदवार को लेकर राजद प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने कहा राजद नीतीश कुमार को पीएम उम्मीदवार मानती है। राजद सुप्रीमो लालू यादव ने सीएम नीतीश को एक बार नहीं दो बार पीएम का उम्मीदवार माना है। दरअसल 2015 में महागठबंधन की सरकार बनने के दौरान लालू ने कहा था कि नीतीश कुमार अब दिल्ली के लिए राजनीति करेंगे और पीएम उम्मीदवार होंगे। लेकिन बीच में राजद और जदयू के बीच गठबंधन टूट गया था।

जदयू पार्टी में पीएम उम्मीदवार की चर्चा नहीं- उपेंद्र कुशवाहा

राजद जहां सीएम नीतीश कुमार को अलगे लोकसभा चुनाव के लिए प्रधानमंत्री उम्मीदवार मान चुकी है, वहीं उनकी पार्टी खुदी ही सीएम नीतीश को पीएम उम्मीदवार नहीं मानी है। दरअसल जदयू संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने नीतीश कुमार के प्रधानमंत्री उम्मीदवार को लेकर कहा कि पार्टी के प्रस्तावित एजेंडे में नीतीश कुमार को कहीं भी प्रधानमंत्री उम्मीदवार नहीं बताया है। पार्टी का एकमात्र उद्देश्य है कि 2024 के लोकसभा चुनाव में विपक्षी दलों को एकजुट किया जाए।

नीतीश को पीएम कैंडिडेट के रूप में देखना निजी विचार

साथ ही उपेंद्र कुशवाहा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जदयू के कोई नेता और कार्यकर्ता को लगता है कि उनका नेता को पीएम कैंडिडेट है तो यह उनका निजी विचार है। किसी भी नेता और कार्यकर्ता को सोचने पर तो रोक नहीं लगायी जा सकती है। उनका अपना राय हो सकता है कि वे नीतीश कुमार को पीएम के रूप में देखते हैं। जहां तक पार्टी की बात है तो पार्टी ने कभी नहीं नीतीश कुमार को पीएम उम्मीदवार की घोषणा की है।

पीएम कैंडिडेट पर नीतीश पहले ही स्पष्ट कर चुके

बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद सीएम नीतीश कुमार को 2024 के लोकसभा चुनाव में पीएम कैंडिडेट के तौर पर प्रोजेक्ट किया जा रहा है। हालांकि सीएम नीतीश कुमार इसको लेकर कई बार स्पष्ट किया कि वे लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री उम्मीदवार नहीं है। लेकिन उन्होंने ये भी साफ तौर पर कहा है कि अगले लोकसभा चुनाव में भाजपा को केंद्र की सत्ता में आने से रोकने के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे। इसके लिए विपक्षी दलों के नेताओं से मुलाकात करेंगे।

सीएम नीतीश का दिल्ली दौरा

इस कड़ी में सीएम नीतीश ने पिछले सप्ताह तीन दिवसीय दिल्ली दौरे पर गये थे। यहां उन्होंने लोकसभा चुनाव में विपक्षी दलों की एकजुटता को लेकर कई विपक्षी नेताओं से मुलाकात की। सबसे पहले सीएम नीतीश कांग्रेस नेता राहुल गांधी से मिले। इसके बाद वे कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी से मिले। आगले दिन उन्होंने कई अहम दल के नेताओं से मुलाकात की। इसमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, सीएमआई(एम) के सीताराम येचुरी, सीपीआई के डी राजा, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला। इसके बाद उन्होंने यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा प्रमुख मुलायम सिंह और उनके बेटे अखिलेश से मुलाकात की। अगले दिन उन्होंने शरद पवार से भी मुलाकात की। इस दौरान उनकी कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात नहीं हुई। इस पर उन्होने कहा था कि एक दिन सोनिया गांधी से मुलाकात करने के लिए दिल्ली आऊंगा।


Find Us on Facebook

Trending News