विधवा के घर को जेसीबी से तोड़ कर ध्वस्त किया, फोन करने के बाद भी दो सौ मीटर दूर थाने से नहीं पहुंची पुलिस

विधवा के घर को जेसीबी से तोड़ कर ध्वस्त किया, फोन करने के बाद भी दो सौ मीटर दूर थाने से नहीं पहुंची पुलिस

MUZAFFARPUR :  जिले में बदमाशों ने एक विधवा के मकान पर जबरन जेसीबी की सहायता से ध्वस्त कर दिया। इस दौरान महिला पुलिस को फोन लगाती रही, लेकिन दो सो मीटर दूरी पर स्थित थाने की पुलिस मदद के लिए नहीं पहुंची और बदमाश आराम से घटना को अंजाम देकर फरार हो गए। मामले में अब पीड़ित महिला ने जिले के पुलिस कप्तान से पास न्याय की गुहार लगाई है।

घटना  सदर थाना के मझौलिया स्थित दिनकर नगर से जुड़ा है जहां  पेशे से नर्स का काम करनेवाली विधवा बबिता कुमारी पति स्व. कौशल कुमार ने बताया कि हस्बैंड के निधन के बाद मेरे घर पर भू-माफिया धमेंद्र ओझा पिता नंद किशोर ओझा, विपिन पांडेय पित रुदल पांडेय, कमल कुमार पिता सुरेंद्र प्रसाद सिंह अपने सहयोगी रंजन पांडेय, अशोक व पप्पू के साथ मिलकर कई दिन से मुझे और मेरे परिवार को जान से मारने की धमकी दे रहे थे। पीड़ित महिला ने बताया कि इस संबंध में स्थानीय थाने में शिकायत भी दर्ज कराई गई थी, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। 

दो दिन पहले 40 की संख्या में पहुंचे बदमाश

एसपी से की गई शिकायत में महिला ने बताया कि पुलिस की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं होने के कारण उनका मनोबल बढ़ा हुआ था। बीते 26 अगस्त को रात करीब साढ़े नौ बजे के आसपास लगभग 40 की संख्या में वह लोग जेसीबी लेकर पहुंचे और पिस्तौल की नोंक पर मेरे पांच कमरों के एसबेस्टस के घर को तोड़ दिया। साथ ही घर का सारा सामान भी लूटकर अपने साथ ले गए। 

विधवा महिला ने बताया कि जब इसका विरोध किया गया तो उन्होंने मेरे और मेरी बेटी के साथ अभद्र व्यवहार किया। किसी तरह लोगों के आने के बाद सभी की जान बची। पीड़ित महिला ने बताया कि इस पूरी घटना को सीसीटीवी में देखा जा सकता है।

200 मीटर की दूरी पर है थाना

पीड़ित महिला ने बताया कि घटना के दौरान कई बार पुलिस को फोन किया, लेकिन 200 मीटर की दूरी पर थाना होने के बाद भी पुलिस लगभग एक घंटे बाद पहुंची और कार्रवाई के नाम पर खानापूर्ति कर वापस लौट गई। इतना ही नहीं पुलिस के बैरंग लौटने के बाद अपराधी पुनः उस जगह पर आते हैं और उस महिला को धमकी देते हुए पुनः तोड़फोड़ कर निकल जाते है। अपराधियों का यह बुलंद हौसला कहीं ना कहीं पुलिस अपराधी गठजोड़ को दर्शाता है । ऐसे में समाज में एक विधवा महिला के सम्मान एवं उसके गौरव की रक्षा करने में असक्षम मुजफ्फरपुर पुलिस पर सवाल उठना लाजिमी है।

Find Us on Facebook

Trending News