एक सप्ताह में ही जगदानंद सिंह से लालू प्रसाद का मोह भंग, प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाने की तैयारी शुरू, जानें किसे मिल सकती है जिम्मेदारी

एक सप्ताह में ही जगदानंद सिंह से लालू प्रसाद का मोह भंग, प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाने की तैयारी शुरू, जानें किसे मिल सकती है जिम्मेदारी

PATNA : राजद में अभी ज्यादा समय नहीं गुजरा है, जब प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी पर लालू प्रसाद ने जगदानंद सिंह को जिम्मेदारी सौंपी थी। लेकिन इसके बाद पार्टी में ऐसा कलह हुआ कि अब लालू प्रसाद का जगदानंद सिंह से मोहभंग हो गया है और जो जानकारी सामने आ रही है, उसमें लगभग यह निश्चित हो गया है कि जगदानंद सिंह को प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाया जाएगा और उनकी जगह अब्दूल बारी सिद्दकी को पार्टी की कमान सौंपी जा सकती है। आज लालू प्रसाद खुद इसकी घोषणा कर सकते हैं।

कर चुके हैं इस्तीफे की पेशकश

बताया जा रहा है पार्टी नेतृत्व से नाराज चल रहे जगदानंद सिंह पहले ही अपने इस्तीफे की पेशकश कर चुके हैं। ऐसे में अब लालू प्रसाद और तेजस्वी यादव भी यह मन बना चुके हैं कि इस बार जगदानंद का मान मनौव्वल नहीं किया जाएगा। अगर जगदानंद सिंह खुद मान जाते हैं तो ठीक है, नहीं तो उनका पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी से इस्तीफा स्वीकार कर लिया जाएगा।

बेटे और बयान के कारण नाराज

बता दें कि जगदानंद सिंह की नाराजगी बेटे सुधाकर सिंह को मंत्री पद से हटाए जाने को लेकर नाराज थे। इसके अलावे उनकी नाराजगी की एक वजह उनका वह बयान भी है, जिसमें उन्होंने यह कहा था कि बिहार में 2023 में तेजस्वी यादव सीएम बनेंगे और नीतीश कुमार कुर्सी छोड़ देंगे। उनके इस बयान पर जदयू ने नाराजगी जाहिर की, जिसके बाद आनन फानन में राजद में यह निर्देश जारी कर दिया गया कि यहां कोई भी बयान सिर्फ तेजस्वी यादव ही देंगे। जिस तरह से यह आदेश जारी किया गया, उसमें यह साफ था कि जगदानंद सिंह के भी सारे अधिकार छीन लिए गए हैं। जो नाराजगी का एक कारण बन गया था। इसके बाद से ही जगदानंद लगातार लालू-तेजस्वी से दूरी बनाए हुए हैं।


Find Us on Facebook

Trending News