पटना में ट्रेन में अकेले सफर करने वाली महिलाओं को अब डरने की जरूरत नहीं, आरपीएफ की 'मेरी सहेली' रहेगी मदद को तैयार

पटना में ट्रेन में अकेले सफर करने वाली महिलाओं को अब डरने की जरूरत नहीं, आरपीएफ की 'मेरी सहेली' रहेगी मदद को तैयार

PATNA: महिलाओं की सुरक्षा के लिए रेलवे कटिबद्ध है। ट्रेन में अकेले सफर करना अब भी कई महिलाओं के लिए परेशानी का सबब रहता है। अब ट्रेन में अकेले सफर करने वाली महिलाओं या लड़कियों को डरने की जरूरत नहीं है। दानापुर मंडल के पूर्व मध्य रेल ने महिलाओं को भरोसा दिलाया है कि आप की सुरक्षा 'मेरी सहेली' करेगी। इस अभियान के तहत ट्रेन में सफर के दौरान रेलवे पुलिस बल की महिला विंग ‘मेरी सहेली’ महिला यात्रियों का हाल-चाल जानेगी और सफर के दौरान अगर किसी तरह की कोई परेशानी होती है,तो उसका निदान भी करेगी। रेलवे का मानना है कि इस पहल से खास कर ट्रेन में सफर करने वाली महिलाओं का मनोबल बढ़ेगा और महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों में भी कमी आएगी।

पूर्व मध्य रेल दानापुर मंडल के डीआरएम सुनील कुमार ने बताया कि मधुबनी की 28 वर्षीय मीना बानो हाल ही में लोकमान्य तिलक मुंबई-रक्सौल स्पेशल पैसेंजर ट्रेन (02546) में अपने पति फिरोज के साथ यात्रा कर रही थीं। यात्रा के दौरान उन्हें प्रसव पीड़ा हुई थी। पटना जंक्शन की आरपीएफ मेरी सहेली टीम को संदेश मिला। जब ट्रेन रात करीब साढ़े दस बजे पहुंची तो मीना को पटना जंक्शन पर उतारा गया। दानापुर मंडल रेल प्रबंधक, सुनील कुमार ने कहा कि मेरी सहेली टीम ने तेजी से काम किया और बिना कीमती समय बर्बाद किए प्लेटफॉर्म नंबर एक पर ही एक बच्ची की सुरक्षित डिलीवरी की व्यवस्था की। उहोंने कहा कि दानापुर मंडल के पटना जंक्शन, दानापुर और पाटलिपुत्र जंक्शन पर आरपीएफ मेरी सहेली की तीन टीमें बनाई हैं। एक महिला सब इंस्पेक्टर के नेतृत्व में ये टीमें इन स्टेशनों पर चौबीसों घंटे काम कर रही हैं। पटना जंक्शन, दानापुर और पाटलिपुत्र जंक्शन से चलने वाली लंबी दूरी की मेल और एक्सप्रेस विशेष यात्री ट्रेनों को उनके द्वारा नियमित रूप से एस्कॉर्ट किया जा रहा है। खासकर कोविड-19 महामारी के दौरान भी आरपीएफ मेरी सहेली टीम व्यक्तिगत स्तर पर महिला यात्रियों के साथ समन्वय कर रही है। महिला सुरक्षा कवर के तहत आरपीएफ मेरी सहेली टीम लंबी दूरी की यात्री ट्रेनों से यात्रा करने वाली प्रत्येक महिला से संपर्क करती है। डीआरएम ने कहा कि यात्रा के दौरान उनके संपर्क में रहने के लिए पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन, प्रयागराज, कानपुर, टूंडला और नई दिल्ली में स्थित मेरी सहेली टीमों को उनका विवरण भेजा जाता है। डीआरएम ने कहा कि यह मेरी सहेली टीमों की जिम्मेदारी है कि वे अपने समकक्षों को सूचित करें। पटना जंक्शन, दानापुर और पाटलिपुत्र जंक्शन उनके सुरक्षित आगमन के बारे में। इसी तरह यह सुविधा मुंबई, सिकंदराबाद, अहमदाबाद, चेन्नई, हावड़ा, जयपुर और अन्य के लिए प्रत्येक लंबी दूरी के मार्ग पर उपलब्ध है।

रेलवे ने यात्रा के दौरान मेरी सहेली टीम से किसी भी प्रकार की सहायता प्राप्त करने वाली महिला यात्रियों के लिए नंबर 139 जारी किया है। डीआरएम ने कहा कि नई दिल्ली में स्थित केंद्रीय नियंत्रण कक्ष और प्रत्येक प्रारंभिक जोनल रेलवे मुख्यालय को भी यात्रा के दौरान महिला सुरक्षा की आवश्यकता के बारे में जानकारी मिलती है। डीआरएम के अनुसार, डिवीजन में आरपीएफ मेरी सहेली टीमों को बेंगलुरु, सिकंदराबाद, मुंबई और चेन्नई मेरी सहेली टीमों से विशेष यात्री ट्रेनों में यात्रा करने वाली एकल महिला के बारे में प्रतिदिन संदेश मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि मंडल की 'मेरी सहेली' टीमें यह सुनिश्चित करें कि मेरी सहेली टीमों से सहायता मांगने वाली अकेली या महिला यात्री सुरक्षित अपने गंतव्य तक पहुंचे और आरपीएफ की महिलाएं उन्हें स्टेशन परिसर से बाहर भी ले जाएं।

Find Us on Facebook

Trending News