काम का इनामः वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड 'लंदन' ने विधायक पवन जायसवाल को दिया अवार्ड, सम्मान पाने वाले बिहार के पहले MLA बने

काम का इनामः वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड 'लंदन' ने विधायक पवन जायसवाल को दिया अवार्ड, सम्मान पाने वाले बिहार के पहले MLA बने

PATNA: कोरोना संक्रमण के पहले और दूसरे चरण में अबतक लाखों लोगों की जान चली गई । बिहार में भी हजारो लोगों की मौत हुई है। कोविड-19 काल में जब हर तरफ त्राहिमाम की स्थिति थी,सरकार के तमाम प्रयास के बाद भी लोगों को मदद नहीं मिल पा रही थी। कई सांसद-विधायक भी अपने आप को अक्षम पा रहे थे या खुद को क्वारंटीन कर लिये थे। वैसी स्थिति में एक जनप्रतिनिधि गृह जिले और विस क्षेत्र के लिए रहनुमा बनकर उभरा। सरकारी प्रयास अपनी तरफ और विधायक का प्रयास भी समानांतर चल रहा था। कोरोना के पहले चरण में चाहे परदेस में फंसे लोगों की वापसी का मामला हो या फिर बाहर फंसे लोगों के खाते में पैसा भेजने का या फिर लोगों के बीच राहत सामाग्री बांटने का या अन्य कोई काम। हर क्षेत्र में बीजेपी विधायक ने रिकार्ड बना लिया। सामाजिक क्षेत्र में किये गये इस बेहतर प्रयास की चहुंओर सराहना हुई। अब तो वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड लंदन ने बीजेपी विधायक के इस सराहनीय पहल की सराहना की है और सम्मानित किया है। 

वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड लंदन ने दिया अवार्ड

पूर्वी चंपारण के ढाका विस क्षेत्र से दूसरी बार चुनाव जीते पवन कुमार जायसवाल को कोरोना काल में बेहतर सामाजिक कार्य को लेकर सम्मानित किया गया है। वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड ने इन्हें राजनीति के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ घोषित किया है और सर्टिफिकेट दिया है। वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड लंदन की तरफ से सम्मानित होने वाले पवन जायसवाल बिहार के पहले विधायक बन गये हैं। संस्थान ने विधायक पवन जायसवाल को यह सम्मान कोरोना संकट में मानव सेवा में  उत्कृष्ट योगदान को लेकर दिया है। वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड लंदन विधायक के इस प्रयास को अपने रिकार्डस में जगह दी है।

कोरोना काल में सरकार के समानांतर चला रहे थे सेवा केंद्र 

बता दें, ढाका से बीजेपी विधायक पवन जायसवाल ने कोरोना के पहले संकट से ही लगातार अपने जिले और विस क्षेत्र में मानव सेवा में जुटे रहे। पहले फेज में राज्य से बाहर फंसे वैसे लोग जिन्हें सरकारी स्तर से 1-1 हजार रू की सरकारी सहायता नहीं मिली वैसे 4400 लोगों के खाते में 500-500 रू भेजा। वहीं राज्य के बाहर फंसे लोगों की मदद के लिए अफने स्तर से कोविड-19 हेल्प ग्रुप बनाया। इसके लिए एक लिंक जारी किया। साथ ही 12 संपर्क नंबर जारी किया ताकी बाहर फंसे लोग अगर सहायता के लिए मदद मांगें तो उन्हें दी जा सके। लिंक और संपर्क नंबरों के माध्यम से बाहर फंसे करीब 14 हजार 700 लोगों की घर वापसी कराई जा सकी। इतना ही नहीं पहले फेज में वैसे प्रवासी मजदूर जो क्वारंटीन सेंटरों में रह रहे थे वैसे करीब 15000 हजार लोगों के बीच खाद्य-सहायता पैकेट का वितरण कराया गया।

वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड अवार्ड पाने वाले पहले विधायक बने

ढाका विधायक पवन जायसवाल ने अपने स्तर से पहले और दूसरे फेज में जिलेभर के करीब 250 पंचायतों में सेनेटाइजेशन का काम करवाया । कोरोना से मृतक के परिजनों को मिलने वाली 4 लाख रू की सरकारी सहायता दिलाने को लेकर काफी प्रयास किया. इतना ही नहीं कोरोना काल में लोगों को चिकित्सीय सुविधा मिले इसको लेकर चिकित्सकों से ऑनलाईन परामर्श की व्यवस्था की गई। इस तरह के सामाजिक कार्यों का नतीजा हुआ कि वर्ल्ड बुक ऑफ रिकार्ड लंदन ने विधायक पवन जायसवाल को इस बेहतर काम के लिए उत्साहवर्द्धन किया है और सम्मानित किया है। वाकई में इस तरह के प्रयास अन्य जनप्रतिनिधि करें तो निश्चित तौर पर क्षेत्र के लोगों की समस्या में काफी कमी आएगी। 

Find Us on Facebook

Trending News