देशभर में मनाया जा रहा योग दिवस, ये 5 आसन आपको रखेंगे फिट

देशभर में मनाया जा रहा योग दिवस, ये 5 आसन आपको रखेंगे फिट

21 जून, अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जाता है. 21 जून साल का सबसे बड़ा दिन होता है और योग भी मनुष्य को दीर्घ जीवन प्रदान करता है. पहली बार यह दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया, जिसकी पहल भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 27 सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण से की थी.

जिसके बाद 21 जून को 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' घोषित किया गया. 11 दिसम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र में 177 सदस्यों द्वारा 21 जून को " अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस" को मनाने के प्रस्ताव को मंजूरी मिली। प्रधानमंत्री मोदी के इस प्रस्ताव को 90 दिन के अंदर पूर्ण बहुमत से पारित किया गया, जो संयुक्त राष्ट्र संघ में किसी दिवस प्रस्ताव के लिए सबसे कम समय है.

योग दिवस के मौके पर इन 5 आसन को करने से आपका हेल्थ फिट रहेगा

धनुरासन

YOGA-DAY-BEING-CELEBRATED-ACROSS-THE-COUNTRY2.jpg

इसे bow पोज़ भी कहा जाता है. इस आसान को पेट के बल किया जाता है और इस आसन को करने आप फ्रेश महसूस करेंगे। यह आसन न सिर्फ पाचन क्रिया में मदद करता है, बल्कि कान्स्टपेशन और असिडिटी की समस्या को भी दूर करने में मदद करता है.

चक्रासन

YOGA-DAY-BEING-CELEBRATED-ACROSS-THE-COUNTRY3.jpg

इस आसन में बॉडी हाफ व्हील के आकार में रहता है. इस आसन के बहुत सारे फायदे हैं. यह स्पाइनल कॉर्ड और लचीला (फ़्लेक्सिबल) और मजबूत बनाता है और बॉडी में हॉर्मोनल लेवल को बैलेंस करता है। साथ ही यह कमर, जांघ और रीढ़ की हड्डी से संबंधित परेशानियों को दूर करने में भी मदद करता है

मर्जरियासन

YOGA-DAY-BEING-CELEBRATED-ACROSS-THE-COUNTRY4.jpg

इस आसन का नाम बिल्ली पर पड़ा है, बिल्ली को मर्जर भी बोलते हैं. यह योग आसन शरीर को उर्जावान और सक्रिय बनाये रखने के लिए बहुत फायदेमंद है। इस आसन से रीढ़ की हड्डियों में खिंचाव होता है जो शरीर को लचीला बनाता है।

नटराज आसन 

YOGA-DAY-BEING-CELEBRATED-ACROSS-THE-COUNTRY5.jpg

इसे सबसे अच्छा आसन कहा जाता है, इसमें बैलेंस बनाना बहुत जरुरी है. नटराज आसन फेफड़ों की कार्यक्षमता को बढ़ाता है. इय योग से कंधे मजबूत होते हैं साथ ही बाहें और पैर भी मजबूत होते हैं. जिनको लगातार बैठकर काम करना होता है उनके लिए नटराज आसन बहुत ही फायदेमंद है.

हलासन 

YOGA-DAY-BEING-CELEBRATED-ACROSS-THE-COUNTRY6.jpg

हलासन के रोज अभ्यास से रीढ़ की हड्डियां लचीली रहती है। वृद्धावस्था में हड्डियों की कई प्रकार की परेशानियां हो जाती हैं। यह आसन पेट के रोग, थायराइड, दमा, कफ एवं रक्त सम्बन्धी रोगों के लिए बहुत ही लाभकारी होता है।


Find Us on Facebook

Trending News