भभुआ के माई मुंडेश्वरी की दैवीय शक्ति को जानकर आप दंग रह जायेंगे, पढ़िए पूरी खबर

भभुआ के माई मुंडेश्वरी की दैवीय शक्ति को जानकर आप दंग रह जायेंगे, पढ़िए पूरी खबर

KAIMUR : कैमूर जिले के पवरा पहाड़ी पर मां मुंडेश्वरी धाम स्थित है. यहां दूर-दूर के इलाकों से लोग माता के दर्शन के लिए आते हैं. मां मुंडेश्वरी धाम में भक्त जो भी मन्नत मांगते हैं. वह पूरी होती है. लोग कहते है कि यहाँ शारदीय नवरात्र के मौके पर लोगों की भारी भीड़ जुटती है. खासकर सप्तमी, अष्टमी और नवमी को इस मंदिर में मां के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का भीड़ उमड़ जाता है. माता के जयघोष से पावरा पहाड़ी गूंज उठता है. शारदीय नवरात्र में पूरे पहाड़ को सजा दिया जाता है. यहां नवरात्र में अद्भुत नजारा हो जाता है. इस मंदिर के बारे में विशेष मान्यता है. जिसे सुनकर आप चौंक जायेंगे. 

इसे भी पढ़े : दशहरा पर पटना के गांधी मैदान में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, कल शाम 5 बजे होगा रावण दहन

बताया जाता है की इस मंदिर में पशुओं का चढ़ावा होता है. लेकिन उनकी कभी बलि नहीं दी जाती है. देश के किसी भी मंदिर में ऐसा देखने को नहीं मिलता है. कहा जाता है कि मंदिर के पुजारी जानवरों पर अक्षत छिड़कते हैं और वह जानवर मूर्छित हो जाता हैं. जब तक दोबारा अक्षत का छिड़काव नहीं होता है. तब तक वह मूर्छित रहते हैं. यह नजारा अद्भुत होता है. मां के यहां जीव भी नहीं लिया जाता है और चढ़ावा भी चढ़ जाता है. इतना ही नहीं इस मंदिर के विषय में जब पुजारी से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह प्राचीनतम मंदिर है. 

इसे भी पढ़े : धर्म के ठेकेदारों के निशाने पर फिर नुसरत जहां, देवबंदी उलेमा बोले- ये इस्लाम में हराम

यह मंदिर सदियों से यहाँ अवस्थित है. यहां कई बार वैज्ञानिक आकर शोध किए हैं. लेकिन आज तक इस मंदिर का कोई सुराग नहीं मिल पाया है. यहां कई राजाओं का मुहर भी मिला है. नवरात्र के मौके पर यहाँ चौकस सुरक्षा व्यवस्था की गयी है. चौकस सुरक्षा व्यवस्था के बीच श्रद्धालु माँ का दर्शन करते हैं. दंडाधिकारी मजिस्ट्रेट और पुलिस बल जगह-जगह तैनात कर दिए गए हैं. 

कैमूर से देवब्रत की रिपोर्ट 


Find Us on Facebook

Trending News