प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में नहीं जाने को लेकर सीएम नीतीश के बचाव में उतरी जदयू, कहा – भाजपा से दूरी बनाने को बताया गलत

प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में नहीं जाने को लेकर सीएम नीतीश के बचाव में उतरी जदयू, कहा – भाजपा से दूरी बनाने को बताया गलत

PATNA : बिहार में भाजपा और जदयू के बीच राजनीतिक खींचतान के बीच कल जिस तरह से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प्रधानमंत्री के बुलावे के बाद उनके कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए, उसके बाद राजनीतिक गलियारे में इस बात की चर्चा शुरू हो गई कि सीएम अब भाजपा से दूरी बना रहे हैं। जिसके बाद जदयू खेमा अब अपने नेता के बचाव में उतर आया है। जदयू नेताओं का कहना है कि अगर भाजपा से दूरी की बात में दम होता तो वह शाहनवाज हुसैन के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए नहीं जाते। 

जदयू के वरिष्ठ नेताओं की मानी जाए तो दिल्ली में मुख्यमंत्रियों और उच्च न्यायालय के प्रधान न्यायाधीशों के सम्मेलन से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की गैरमौजूदगी केवल व्यक्तिगत कारणों से थी। इसकी जानकारी नीतीश ने बहुत पहले केंद्र सरकार के एक वरिष्ठ मंत्री को दे दी थी।

कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश की न्यायिक व्यवस्था को लेकर आयोजित सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। इस सम्मेलन की सबसे खास बात यह थी सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस सहित सभी हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस और सभी राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल हुए। लेकिन इस सम्मेलन में बुलावा भेजे जाने के बाद भी बिहार के मुख्यमंत्री शामिल नहीं हुए। ऐसे में यह कयास लगाए जाने शुरू हो गए कि बिहार के मुख्यमंत्री अब धीरे धीरे भाजपा से अपनी दूरी बढ़ा रहे हैं। लेकिन अब जदयू ने साफ कर दिया है कि यह सिर्फ राजनीतिक बयानबाजी है और मौजूदा सरकार पर इसका कोई असर नहीं पड़ रहा है।

बता दें कि सीएम नीतीश कुमार कल पूर्णिया में देश के पहले ग्रीन बेल्ट इथेनॉल प्लांट के उद्घाटन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए गए थे। इस कार्यक्रम में भाजपा के दिग्गज नेता व बिहार के उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन भी मौजूद थे।


Find Us on Facebook

Trending News