जदयू के ललन सिंह और राजद के मनोज झा सहित 21 सांसदों ने की मणिपुर के राज्यपाल से मुलाकात, सवालों में घेरे में पीएम मोदी

जदयू के ललन सिंह और राजद के मनोज झा सहित 21 सांसदों ने की मणिपुर के राज्यपाल से मुलाकात, सवालों में घेरे में पीएम मोदी

DESK. हिंसा, उपद्रव और अशांति के दौर से गुजर रहे मणिपुर की जमीनी स्थिति का आकलन करने मणिपुर गए विपक्षी दलों के प्रतिनिधिमंडल ने रविवार को राज्यपाल से मुलाकात की. मणिपुर की राज्यपाल से मुलाकात करने वालों में जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह और राजद नेता मनोज झा सहित विभिन्न दलों के 21 सांसद शामिल हैं. मनोज झा ने कहा कि हम राज्यपाल से राज्य में शांति बहाल करने का अनुरोध करने जा रहे हैं। हम राज्यपाल को एक ज्ञापन सौंपेंगे.

वहीं कांग्रेस सांसद गौरव गोगोई ने कहा कि हम राज्यपाल से मिलेंगे और उनसे जवाबदेही तय करने का आग्रह करेंगे। इसके लिए जिम्मेदार कौन है? राज्य सरकार और केंद्र किसी और पर उंगली उठा रहे हैं लेकिन वे अपनी जिम्मेदारी स्वीकार नहीं कर रहे हैं।" उन्होंने कहा कि हम लोग यहां इंडिया गठबंधन के तौर पर आए हैं. प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्री, विदेश मंत्री और महिला एवं बाल विकास मंत्री मणिपुर से क्यों गायब हैं? क्या प्रधानमंत्री केवल सरकारी उद्घाटन और राजनीतिक भाषण देने के लिए सत्ता में आए थे?

टीएमसी सांसद सुष्मिता देव ने कहा कि 'यहां (मणिपुर) हालात अच्छे नहीं हैं, हम राज्यपाल को एक संयुक्त ज्ञापन सौंपना चाहते हैं और शांति बहाल करने की अपील करना चाहते हैं. हम राज्यपाल से राज्य की स्थिति के बारे में पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को जानकारी देने कहेंगे. 

कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी जो I.N.D.I.A का हिस्सा बनकर आए हैं, ने कहा मुख्य बात यह है कि मणिपुर को नजरअंदाज किया गया है। चूंकि राज्य सरकार और केंद्र सरकार ने इसे नजरअंदाज किया है, इसलिए स्थिति बिगड़ रही है। जल्द से जल्द शांति बहाल होनी चाहिए, यह जरूरी है।" सद्भाव और न्याय बनाए रखने के लिए। हम मांग करेंगे कि राज्यपाल सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए सभी प्रयास करें। यह सरकार की विफलता है.

Find Us on Facebook

Trending News