26/11 की 12वीं बरसी आज: शहीदों को किया गया याद

26/11 की 12वीं बरसी आज: शहीदों को किया गया याद

DESK: 26 नवम्बर 2008 को देश की आर्थिक राजधानी मुंबई पर हुए आतंकी हमले को आज बारह साल पूरे हो गए हैं पर लगता है मानो जैसे कल की ही बात हो. जब पाकिस्तान से आंतकवादियों ने समुन्दर के रास्ते से आकर हमारे देश में  एक ऐसा जानलेवा हमला किया था जिसे भूल पाना शायद ही किसी के लिए आसान हो. भारत और पाकिस्तान के रिश्ते कभी भी उतने अच्छे नहीं थे पर उस आतंकी हमले के बाद स्थिति और ख़राब हो गयी.उस आतंकी हमले से सबक लेते हुए भारत ने कई नए सुरक्षा कदम उठाये पर उस वक़्त हुई गलतियों को भी भूलाया नहीं जा सकता .

एक नजर डालते है उस काले दिन की काली यादों पर की आख़िरकार कैसे आंतकवादियों ने उस घटना को अंजाम दिया था.इस आतंकी हमले में सबसे बड़ा हाथ लश्कर-ऐ-तैयबा का था जिसके द्वारा पाकिस्तान से समुन्दर के रस्ते 10 आतंकियों को भारत लाया गया था .ट्राईडेंट होटल ,सायन हॉस्पिटल ,वीटो रेलवे स्टेशन , ताज होटल ये सभी लश्कर-ऐ-तैयबा आतंकियों के कब्ज़े में पूरे 60 घंटो के लिए थे. जिसमें 166 लोग और 18 सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गयी थी .इस हमले में 300 से जादा लोग घायल हुए थे.10 आतंकियों में से 9 मारे गए थे और एक को जिंदा पकड़ लिया गया था जिसे बाद में फांसी की सजा दी गयी थी.

इस हमले की निंदा सिर्फ भारत ही नहीं खुद पाकिस्तान भी करता है.पाकिस्तान के गुपकर,राजबाग,टीआरसी,बरमालु,और हैदरपुर में पोस्टर लगाये गए हैं जिनमें यह लिखा हुआ है की क्या उन आंतकवादियों को जरा भी शर्म,दया, नहीं आई ऐसी नापाक घटना को अंजाम देने में .केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अपने ट्वीट के जरिये मुंबई 26/11 हमले में जान गंवाने वाले सभी लोगों को श्रधांजलि अर्पित की है .केंद्रीय गृह मंत्री के अलावा समृत्ति ईरानी ने भी ट्वीट के जरिये शहीदों को नमन किया .

उस घटना के बाद तटीय सुरक्षा बढाई गयी साथ ही साथ पुलिस कानूनों में भी सुधार किये गए और इन्टरनेट मीडिया पर भी पूरी नजर रखी जाती है .हालाँकि आज हमार देश पूरी तरह से तैयार है हर मुसीबत से लड़ने के लिए पर आज भी जब वो हमले का मंजर नजरों के सामने आता है तो रोंगटे खड़े हो जाते हैं .हम कभी भी अपने शहीदों के बलिदान को नहीं भूल सकते और उस आतंकी हमले के लिए पाकिस्तान को कभी भी माफ़ नहीं कर सकते हैं .

Find Us on Facebook

Trending News