आम जनता पार्टी राष्ट्रीय ने आरक्षण बढ़ाने की मांग की, मांग पूरी नहीं होने पर आंदोलन की दी चेतावनी

आम जनता पार्टी राष्ट्रीय ने आरक्षण बढ़ाने की मांग की, मांग पूरी नहीं होने पर आंदोलन की दी चेतावनी

पटना. आम जनता पार्टी राष्ट्रीय के द्वारा पार्टी कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन किया गया। इसमें पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष विद्यापति ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि 2000 में बिहार से अलग होकर झारखंड राज्य का गठन हुआ। लगभग 22 वर्ष के दरमियान झारखंड में पिछड़ा वर्ग की आबादी बढ़ जाने के कारण सरकारी सेवा एवं शैक्षणिक क्षेत्र में पिछड़ा वर्ग की आरक्षण की सीमा 50% से बढ़ाकर 67% कर दिया गया। बिहार में आरक्षण की सीमा जो का 50% ही हैं, जबकि बिहार में पिछड़ा और अति पिछड़ा वर्ग की आबादी काफी बढ़ चुकी है। आम जनता पार्टी राष्ट्रीय कई बार आंदोलन कर चुकी है लेकिन बिहार सरकार के कान में जूं तक नहीं रहना है।

उन्होंने यह भी कहा कि आज झारखंड में अतिथियों की आबादी बिहार की तुलना में काफी कम है, लेकिन झारखंड में अति पिछड़ा वर्ग को 15% आरक्षण दिया गया और बिहार में मात्र 18% है। बिहार में पिछड़ा वर्ग से भी कई जातियों को अति पिछड़ा वर्ग में शामिल किया गया है। नितेश कुमार जब एनडीए गठबंधन में थे और उनकी सरकार थी, तब अति पिछड़ों को नजरअंदाज किया। महागठबंधन में है और उनकी सरकार है, सभी अतिथियों की अपेक्षा की जा रही है।

उन्होंने कहा कि झारखंड के बराबर भी आरक्षण दिया जाता है। 17% आरक्षण का लाभ होगा। सरकार की दोहरी नीति का हवाला देते हुए कहा कि समान वर्ग में नहीं रखकर पिछड़ा अति पिछड़ा एवं अनुसूचित वर्ग के आरक्षित कोटा में दाल डाल दिया जाता है, जिससे इस वर्ग को आरक्षण का लाभ से वंचित कर दिया जाता है। उन्होंने बिहार सरकार से मांग की है कि पिछड़े वर्गों के लिए आरक्षण की सीमा 50% से बढ़ाकर कम से कम 67% किया जाए। यदि सरकार में आरक्षण की सीमा झारखंड के बराबर नहीं करती है तो पार्टी पिछड़ा अति पिछड़ा और अनुसूचित वर्ग को एकजुट कर सड़क पर आंदोलन करेगी।

इस दौरान पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी अध्यक्ष रवि वात्सायन, प्रधान सचिव मोहम्मद परवेज खान, राम किशोर सिंह, गणेश बिंद, सूर्य देव प्रसाद ठाकुर, लालजी सिंह, उमाशंकर चंद्रवंशी, जवाहर प्रसाद चंद्रवंशी एवं पार्टी के कार्यकर्ता और गणमान्य मौजूद रहे।


Find Us on Facebook

Trending News