अब तक 24 राजनीतिक दलों ने के समर्थन पर किसान संगठनों की सभी से अपील, कहा- आंदोलन का राजनीतिक इस्तेमाल न करें

अब तक 24 राजनीतिक दलों ने के समर्थन पर किसान संगठनों की सभी से अपील, कहा-  आंदोलन का राजनीतिक इस्तेमाल न करें

डेस्क...  किसान संगठनों के अनुसार, अब तक कुल 24 राजनीतिक पार्टियाें ने भारत बंद का समर्थन दिया है, लेकिन सभी पार्टियों से अपील करते हुए कहा कि वे इस आंदोलन को राजनीतिक इस्तेमाल न करें। किसानों की मांगों को सही ठहराते हुए कांग्रेस और वामपंथी पार्टियों समेत क्षेत्रीय स्तर पर मज़बूत– डीएमके, टीआरएस, सपा, बसपा, आरजेडी, शिवसेना, एनसीपी, अकाली दल, आप, जेएमएम और गुपकर गठबंधन ने ‘भारत बंद’ का समर्थन किया है। 

इस बीच, गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को पहले ही यह निर्देश दे दिए हैं कि वो मंगलवार होने वाले भारत बंद के दौरान शांति और संयम बनाएं रखें। साथ ही प्रयास करें कि लोग कोविड-19 की गाइडलाइंस का पालन करें। किसान नेताओं ने कहा है कि भारत बंद सुबह 10 बजे से दोपहर तीन बजे तक प्रभावी रहेगा, लेकिन इमरजेंसी सेवाओं में किसी तरह की बाधा नहीं डाली जाएगी।

किसान संगठनों ने यह भी स्पष्ट रूप से कहा है कि किसी राजनीतिक पार्टी का इस आंदोलन पर कोई प्रभाव नहीं है। किसानों को सिर्फ़ राजनीतिक दलों से नहीं, बल्कि अन्य वर्गों से भी समर्थन मिल रहा है, जैसे- वर्कर और ट्रेडरों की यूनियन, वकीलों की यूनियन, रेलवे कर्मचारियों की यूनियन और रिटायर्ड आईएएस अधिकारियों की यूनियन ने भी किसानों की मांगों का समर्थन किया है। 

इधर, किसान संगठन के एक नेता ने कहा कि दुनिया हमारा संघर्ष देख रही है। कनाडा, अमेरिका, जर्मनी, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया – इन देशों में मौजूद भारतीयों ने किसानों के समर्थन में प्रदर्शन किए हैं। हम सभी चाहते हैं कि तीनों नये कृषि क़ानून वापस लिए जाएं। हम किसी तरह का टकराव नहीं चाहते। किसी पर भारत बंद के लिए दबाव बनाने की ज़रूरत नहीं है। हमें जानते हैं कि लोग स्वेच्छा से हमारे समर्थन में आ रहे हैं और वो समझ रहे हैं कि किसानों की मांगें क्या हैं।

किसानों और केंद्र सरकार के बीच अब तक पाँच चरण की वार्ता हो चुकी है।  छठे चरण की बातचीत 9 दिसंबर यानी बुधवार को होनी है। 



Find Us on Facebook

Trending News