अग्निपथ से भारत बनेगा सुरक्षित और मजबूत राष्ट्र, एनएसए अजीत डोभाल ने बताया क्यों बेहद जरूरी हैं अग्निवीर

अग्निपथ से भारत बनेगा सुरक्षित और मजबूत राष्ट्र, एनएसए अजीत डोभाल ने बताया क्यों बेहद जरूरी हैं अग्निवीर

DESK. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने अग्निपथ भर्ती योजना और अन्य आंतरिक सुरक्षा मुद्दों पर मंगलवार को कहा कि हमें बदलाव को स्वीकारने के लिए तैयार रहना होगा. एक साक्षात्कार के दौरान एनएसए ने कहा कि इसे एक नजरिए से देखने की जरूरत है। अग्निपथ अपने आप में एक स्टैंडअलोन योजना नहीं है। 2014 में जब पीएम मोदी सत्ता में आए, तो उनकी प्रमुख प्राथमिकताओं में से एक भारत को सुरक्षित और मजबूत बनाना था। इसके लिए कई कई कदम उठाए गए।

डोभाल ने कहा कि सुरक्षा एक गतिशील अवधारणा है। यह स्थिर नहीं रह सकता, यह केवल उस वातावरण के संबंध में है जिसमें हमें अपने राष्ट्रीय हित और राष्ट्रीय संपत्ति की रक्षा करनी है। पूरा युद्ध एक बड़े बदलाव के दौर से गुजर रहा है। हम संपर्क रहित युद्धों की ओर जा रहे हैं, और अदृश्य शत्रु के विरुद्ध युद्ध की ओर भी जा रहे हैं। तकनीक तेजी से आगे बढ़ रही है। कल की तैयारी करनी है तो बदलना ही होगा।

उन्होंने कहा कि भारत के चारों तरफ माहौल तेजी से बदल रहा है। हालात को देखते हुए संरचना में बदलाव करना होगा। रक्षा क्षेत्र के हर स्तर पर सुधार हो रहा है। सेना की आधुनिकता के लिए सरकार नए हथियार खरीद रही है। हमें अपनी सेना को विश्व स्तरीय सेना बनाना है।  इसके लिए उपकरणों की आवश्यकता है, इसके लिए प्रणालियों और संरचनाओं में बदलाव की आवश्यकता है, इसके लिए प्रौद्योगिकी में बदलाव की आवश्यकता है, इसके लिए जनशक्ति, नीतियों में बदलाव की आवश्यकता है और उन्हें भविष्यवादी होना चाहिए।

अग्निपथ के विरोध में बिहार में सहित देश के अधिकांश राज्यों में हिंसक विरोध प्रदर्शन हुआ था। 20 जून को भारत बंद भी बुलाया गया जबकि हिंसा के कारण देश में करोड़ों रुपए की सार्वजनिक संपत्ति को तहस नहस कर दिया गया। देश के विपक्षी दल भी इसे वापस लेने की मांग मोदी सरकार से कर रहे हैं। इन सबके बीच अब डोभाल ने बड़ा बयान देकर युवाओं को बदलाव के लिए तैयार रहने और इसे स्वीकारने की मनःस्थिति में रहने कहा है।


Find Us on Facebook

Trending News