औरंगाबाद के बहुचर्चित सुजीत मेहता हत्याकांड का हुआ खुलासा, पुलिस ने पांच आरोपियों को किया गिरफ्तार

औरंगाबाद के बहुचर्चित सुजीत मेहता हत्याकांड का हुआ खुलासा, पुलिस ने पांच आरोपियों को किया गिरफ्तार

AURANGANBAD : बिहार की कुशवाहा राजनीति में भूचाल ला देने वाले औरंगाबाद के अम्बा के बहुचर्चित सुजीत मेहता हत्याकांड का पुलिस ने उद्भेदन कर दिया है। इस मामले में पुलिस ने पांच अपराधियों को गिरफ्तार करने के साथ ही हत्या को अंजाम देने में इस्तेमाल की गई स्कूटी और चार मोबाइल बरामद किया है। मामले में पुलिस पांच अन्य अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए विभिन्न संदिग्ध ठिकानों पर छापेमारी कर रही है। पुलिस कप्तान कांतेश कुमार मिश्रा ने शनिवार को प्रेसवार्ता में बताया कि सुजीत मेहता की हत्या पूर्व में हुई तीन लोगों की हत्या के प्रतिशोध में की गई। कहा कि सुजीत की हत्या की साजिश हत्या के मामले में उसके जेल से छूटने के बाद आठ माह पहले जनवरी माह में ही रची गई थी। हत्या के लिए 12 लाख की डील तय हुई थी। डील के बाद बीच में भी सुजीत पर अटैक की कोशिश की गयी थी। लेकिन उस वक्त हमलावरों को सफलता नही मिल सकी थी। बाद में 5 अगस्त को अपराधियों ने हत्या को अंजाम दे डाला। उन्होने बताया कि सुजीत मेहता हत्याकांड में मृतक की पत्नी दधपा बिगहा निवासी सुमन कुमारी के बयान पर 6 अगस्त को भादवि की धारा 302, 307 एवं 34 के तहत अम्बा थाना कांड संख्या-191/22 दर्ज किया गया था। 


प्राथमिकी में अम्बा थाना के हड़िया निवासी आकाश कुमार सिंह, चुन्ना सिंह एवं चंदौत ढ़ोंगरा निवासी नंद किशोर को नामजद आरोपी बनाया गया था। प्राथमिकी में तीनों नामजदों पर बाइक से पीछा करते हुए बतरे नदी पुल के पास सुजीत की गोली मारकर हत्या करने और उसके साथ रहे चंदन कुमार को गोली मारकर घायल कर देने का आरोप लगाया गया था। एसपी ने बताया कि हत्याकांड के उद्भेदन के लिए एक विशेष अनुसंधान दल का गठन किया गया। इसी दल ने अनुसंधान के दौरान तकनीकी साक्ष्य एकत्रित किया। इसी साक्ष्य के आधार पर पुलिस ने मामले में पांच अप्राथमिकी अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है। 

उन्होने बताया कि पुलिस ने अनुसंधान के दौरान पहले झारखंड के पलामू जिले के हरिहरगंज थाना के बलरा में ननिहाल में रह रहे गया जिले के वजीरगंज थाना के चुलाई बिगहा निवासी शुभम सिंह को गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में शुमम् ने पुलिस के समक्ष हयाकांड में अपनी संलिप्तता स्वीकार की और हत्याकांड में शामिल सहयोगी अपराधियों के बारे में जानकारी दी। पुलिस के समक्ष शुभम की स्वीकारोक्ति के आधार पर पुलिरस ने मामले के अप्राथमिकी अभियुक्त झारखंड के डालटेनगंज के वार्ड-12 हमीदगंज कंदाखाड़ में रह रहे गढ़वा जिले के मझिआंव थाना के कुनरहे निवासी रौशन पांडेय को डालटेनगंज से गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में मौके पर ही रौशन ने हत्याकांड में अपनी संलिप्तता स्वीकार की और हत्या को अंजाम देने में शामिल अन्य सहयोगियों के बारे में भी जानकारी दी। रौशन से मिली जानकारी के आधार पर कांड के अप्राथमिकी अभियुक्त कुटुम्बा थाना के दधपा बिगहा निवासी पुरूषोतम कुमार, रंजन कुमार एवं ब्रजेश कुमार मेहता को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने हत्या को अंजाम देने में प्रयुक्त एक स्कूटी एवं चार मोबाइल बरामद किया है। 

एसपी ने बताया कि अबतक के  अनुसंधान में ज्ञात हुआ है कि हत्या का कारण पूर्व में आकाश के पिता मन्ना सिंह उर्फ संजय सिंह, गिरफ्तार पुरुषोंतम के भाई संजीत मेहता एवं रंजन कुमार के भाई राजू कुमार की हत्या हुई है। इन तीनों हत्या के मामले में सुजीत के खिलाफ भादवि की धारा 302, 201 एवं 34 के तहत अम्बा थाना कांड संख्या-180/13 तथा भादवि की धारा 302, 120 बी एवं 27 शस्त्र अधिनियम के तहत अम्बा थाना में कांड संख्या-8/14 पहले से ही दर्ज था। इस मामले में सुजीत जेल भी जा चुका था। गिरफ्तार अपराधियों में शुभम सिंह पर हरिहरगंज थाना में कांड संख्या-29/18,  54/18 एवं 24/19 दर्ज है। पुलिस की छापेमारी टीम में एसआईटी टीम के सदस्य एवं जिला आसूचना इकाई के कर्मी शामिल थे।

औरंगाबाद से दीनानाथ मौआर की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News