बुरे फंसे थानाध्यक्ष! दहेज हत्या में परिजनों को न्याय दिलाने की जगह करने गाली गलौज, अब महिला आयोग के पास पहुंची शिकायत

बुरे फंसे थानाध्यक्ष! दहेज हत्या में परिजनों को न्याय दिलाने की जगह करने गाली गलौज, अब महिला आयोग के पास पहुंची शिकायत

 SIWAN : दहेज हत्या के मामले में मृतका को न्याय दिलाने की जगह परिजनों से गाली गलौज करनेवाले थानाध्यक्ष साहब बुरी तरह से फंसते हुए नजर आ रहे हैं। गाली गलौज करने को लेकर मृतका की मां ने अब राष्ट्रीय महिला आयोग सहित बिहार के मुख्यमंत्री, डीजीपी, सीवान डीआईजी व पुलिस कप्तान के पास शिकायत की है। 

मामला सीवान जिले के एमएच नगर थाना क्षेत्र से जुड़ा है। जहां के तेलकथु निवासी जानकी देवी ने  माधुरी कुमारी की शादी दिनांक 10 जुलाई 2020 को अपने सामर्थ्य के अनुसार उपहार देकर इसी थाना के मंदरौली निवासी कृष्णा राम के पुत्र नीरज कुमार राम के साथ हुई थी। तब से उसके ससुराल वाले दहेज में मोटरसाइकिल एवं रंगीन टीवी मांगने लगे। वही मेरा दमाद नीरज राम को जब विदेश जाना था। तब भी 50 हजार की मांग किया गया। लेकिन हमारी बेटी बोली कि मेरे पापा नहीं है, और भाई कहां से देगा।

मांग पूरी नहीं पर की बेटी की पिटाई

जानकी देवी ने बताया कि जब उनकी मांग पूरी नहीं हुई तो दामाद नीरज राम, अरविंद राम तथा धीरज राम तीनों पुत्र कृष्णा राम व कृष्णा राम पिता सहोदर राम, पूनम देवी व पुष्पा कुमारी दोनों पुत्री कृष्णा राम ने मेरी लड़की के साथ मारपीट किया गया। मेरी लड़की को जब जब तंग करते थे तो तब तब लड़की खबर करती थी। मैं कई बार पंचायत लेकर गई। पंचायती होने पर समझाया बुझाया गया। जिसके बाद मामला शांत हो गया।

23 जुलाई को आई बेटी की मौत की खबर

बीते 23 जुलाई को  शाम 4:00 बजे देवर अरविंद राम मेरे मोबाइल पर फोन करके बताया कि आपकी बेटी आज सुबह 7:00 बजे मर गई है। जब हम लोग रोते रोते वहां गए तो देखे कि मेरे लड़की मृत पड़ी है। मुझे पूरा विश्वास है कि मेरी लड़की को अरविंद राम,  पूनम देवी व पुष्पा कुमारी सभी मिलकर मारकर हत्या कर दिए है। तथा इसमें नीरज राम, कृष्णा राम व धीरज राम के द्वारा साजिश किया गया है और मारने के लिए प्रेरित किया गया।

थाने में सुनी फरियाद

जानकी देवी ने बताया कि अपनी बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए वह बीते 26 जुलाई को स्थानीय नगर थाना पहुंची थी। जहां लिखित शिकायत के बाद भी यह कहकर मामले को टालने की कोशिश की गई कि जबतक पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं आएगी, तब तक कोई एफआईआर नहीं हो सकता है। थानाध्यक्ष पर आरोप है कि इस दौरान उन्होंने थाने में इंसाफ मांगने गई महिलाओं से न सिर्फ बद्सलूकी की, बल्कि उनके साथ गाली गलौज भी की है। 

अब पीड़ितों ने थानाध्यक्ष के खिलाफ कार्रवाई की है। 


Find Us on Facebook

Trending News