तेजस्वी, चिराग हो या कन्हैया, इनका अभी कोई भविष्य नहीं, तब तक वह दिल्ली में आराम करें : BJP

तेजस्वी, चिराग हो या कन्हैया, इनका अभी कोई भविष्य नहीं, तब तक वह दिल्ली में आराम करें : BJP

PATNA : तेजस्वी, चिराग और कन्हैया बिहार में इन तीन युवा नेताओं को भविष्य का राजनेता माना जा रहा है। लेकिन भाजपा के नेता ऐसा नहीं मानते हैं। भाजपा विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू का कहना है यह तीनों अभी इस स्तर के नेता नहीं हुए हैं कि वह बिहार की जिम्मेदारी संभाल सकें। उनमें अभी अनुभव की कमी है, साथ ही बहुत ज्यादा आक्रमक हैं जो कि राजनीति में लंबे समय नहीं चल सकती है। 

दिल्ली में अभी आराम करें

तीनों नेताओं के भविष्य को लेकर भाजपा विधायक ने कहा कि जमीनी राजनीति का तीनों में से किसी को जानकारी नहीं है. कन्हैया दिल्ली की राजनीति करते आए हैं, वहीं चिराग और तेजस्वी अपने पिता के नाम के सहारे आगे बढ़े हैं। जहां तक बिहार में इनके सरकार बनाने की बात है तो अभी उसके लिए चार साल का इंतजार करना होगा। तब तक वह दिल्ली में बैठकर आराम करें। वैसे भी ज्यादातर समय तीनों दिल्ली में ही रहते हैं।

कन्हैया को बनाया निशाना

इस दौरान ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू ने कन्हैया कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि जिस पार्टी की डूबती नैया को बड़े से बड़े नेता पार नहीं लगा पा रहे हैं, उसे कन्हैया कैसे बचाएंगे, यह बता पाना कठिन है। जिस अमरिंदर सिंह ने कई सालों तक पंजाब में कांग्रेस को बनाए रखा, उन्होंने पार्टी छोड़ दी। कन्हैया का तो कोई जनाधार ही नहीं है, बिहार में उनके नाम पर कोई वोट नहीं देता है।

नीति आयोग को नहीं दिखता बिहार का विकास

इस दौरान भाजपा विधायक ने नीति आयोग की रिपोर्ट पर भी सवाल उठाए। रिपोर्ट में बिहार को विकास के सूचकांक में सबसे नीचे रखे जाने पर उन्होंने कहा कि वह इस रिपोर्ट को नहीं मानते हैं। बिहार में पिछले कुछ सालों में हर क्षेत्र में विकास के काम हुए, लेकिन नीति आयोग को वह नजर नहीं आता है। यहां सड़कों की हालत बेहतर हुई है। अस्पतालों में व्यवस्था सुधरी है, मरीजों की संख्या बढ़ी है। दूसरे फिल्ड में भी सुधार हुआ है, लेकिन यह नीति आयोग को नहीं दिखता है। कोरोना काल में सबसे बेहतर काम बिहार में हुआ है। 



Find Us on Facebook

Trending News