भागलपुर में दबंगों ने दलित परिवारों के पीने के पानी पर लगायी रोक, पीड़ितों ने थाने में दर्ज कराई शिकायत

भागलपुर में दबंगों ने दलित परिवारों के पीने के पानी पर लगायी रोक, पीड़ितों ने थाने में दर्ज कराई शिकायत

BHAGALPUR : भारत में दलितों की संख्या कुल आबादी का करीब 16.6 फीसदी है। इन्हें अब सरकारी आंकड़ों में अनुसूचित जातियों/जनजाति के नाम से जाना जाता है। हालाँकि आधुनिक भारत में भी जाति भेद अभी खत्म नहीं हुआ है। ताजा मामला भागलपुर जिला के बरारी थाना क्षेत्र में सामने आया है। जहाँ जाति की वजह से कई महादलित परिवार कई दिनों से पानी पीने के लिए तरस गए हैं। बच्चे प्यास से बिलख रहे हैं। उच्च वर्ग के लोग दलित परिवार के लोगों को पानी पीने से भी वंचित करते दिख रहे हैं। 

बरारी थाना अंतर्गत बड़ी खंजरपुर में  महादलित परिवार की पूरी एक बस्ती सरकारी जगहों पर रह रहे हैं। वह सरकारी नल से पानी पीने का काम किया करते थे। लेकिन कुछ दबंगों ने उस नल को ही तोड़ दिया। दबंगों का साफ तौर पर कहना है कि तुम लोग अछूत जाति से आते हो। तुमने यह नल छूकर पानी को अछूता कर दिया है। अगर इस नल को किसी ने छुआ तो मैं वहीं पर उसे स्वर्ग लोक पहुंचा दूंगा। यह बात कोई और नहीं बल्कि वही खंजरपुर के कपिल यादव नकुल यादव एवं उनके कुछ दबंग साथी कमजोर व गरीब तबके के पासवान जाति के लोगों से कह रहे हैं। 

पीड़ितों ने बताया की हमलोग जब सरकारी लगे नल से पानी लाने गए तो दबंग कविलाल यादव नकुल यादव और उनके कुछ दबंग दोस्तों ने नल की टोटी ही तोड़ दिया और कहा की इस नल को नहीं छूना। तुमलोग नल को छूते हो तो वह पानी अछूता हो जाता है जो हमलोगों को गंवारा नहीं है। जब चुन्नू पासवान टूटे हुए नल की मरम्मत करने गया तो दबंगों ने जमकर उसकी पिटाई कर दी। पहले वह बेहोश होकर जमीन पर गिर गया फिर जब उठा तो देखा की शरीर में कई जगह चोट लगने के दाग है। तभी सभी मिलकर इस बात की शिकायत करने बरारी थाना पहुंचे तो वहां थानाध्यक्ष साफ तौर पर कह दिए कि यहां कोई रिपोर्ट नहीं लिखी जाएगी। फिर पूरे गांव के लोग अपनी फरियाद लेकर हरिजन थाना पहुंचे और वहां फरियाद लिखी गई।  

पीडिता पिंकी देवी ने बताया की हम लोगों को अछूत मानकर यहां के दबंग लोग कपड़े सफाई करने से लेकर  पीने के पानी तक नहीं देना चाहते। साफ तौर पर यहां के दबंगों का कहना है की हम लोग उच्च जाति के लोग हैं। तुम लोग निम्न जाति के लोग हो। तुम्हारे नल छूने से पानी दूषित हो जाता है और हम लोग भी अछूते हो जाते हैं। इसलिए यहां के नल से पानी नहीं लेना है। वही पिंकी देवी ने बताया की अगर हमलोग सरकारी नल से पानी नहीं लेंगे तो पिएंगे क्या ? 20 दिनों से किसी तरह पानी बचा बचा कर पी रही हूं। अभी भी हम लोगों के साथ उच्च जाति के लोग वर्ण भेद कर रहे हैं। हमें नीचा समझकर दुत्कार रहे हैं। इसी मामले को लेकर पासवान समुदाय के तकरीबन 10 घरों के लोग आज हरिजन थाना में अपने न्याय की गुहार लगाने पहुंचे।

भागलपुर से बालमुकुन्द की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News