BIG BREAKING : लालू यादव की बढ़ेगी परेशानी ... रेलवे घोटाले में फिर से सीबीआई ने खोली फाइलें

BIG BREAKING : लालू यादव की बढ़ेगी परेशानी ... रेलवे घोटाले में फिर से सीबीआई ने खोली फाइलें

पटना. लालू यादव की मुश्किलें एक बार फिर से बढने वाली है. सीबीआई के एक बार फिर से रेलवे से जुड़े भ्रष्टाचार के मामलों में जांच शुरू करने की खबर है. यह मामला तब का है जब लालू यादव रेल मंत्री हुआ करते थे. इसमें आईआरसीटीसी घोटाला काफी सुर्ख़ियों में रहा था. इस मामले की जांच वर्ष 2018 में शुरू थी लेकिन बाद में मई 2021 में इसकी जांच प्रक्रिया बंद करने की खबर आई थी. अब एक बार फिर से इसी मामले में लालू यादव और उनसे जुड़े लोगों के खिलाफ सीबीआई जांच तेज फिर से शुरू होने की खबर है. 

सूत्रों के अनुसार सीबीआई ने एक बार फिर से आईआरसीटीसी घोटाले की फाइलें खोली हैं. इसमें लालू यादव के रेल मंत्री रहने के दौरान कथित रूप से अलग अलग प्रकार की वित्तीय अनियमितता का मामला जुड़ा है. सीबीआई ने पहले भी भ्रष्टाचार से जुड़े इस मामले में संलिप्त संदेहास्पद कुछ लोगों के यहां छापेमारी की थी. इसमें कुछ लोगों से लंबी पूछताछ और कुछ को गिरफ्तार किया गया था. हालांकि कहा जा रहा रहा है कि मई 2021 से इसकी जांच शिथिल पड़ी थी लेकिन अचानक से एक बार फिर से इसकी जांच शुरू हो गई है. 

रेलवे घोटाले का यह मामला न सिर्फ लालू यादव बल्कि उनकी कई निकटवर्ती परिजनों के लिए मुसीबत बढ़ाने वाला है. यह न सिर्फ तेजस्वी यादव की चिंता बढ़ाने वाला मामला होगा बल्कि इस केस में लालू यादव, तेजस्वी यादव, रागिनी यादव और चंदा यादव भी शामिल हैं. ऐसे में उनके परिवार के कई अन्य लोगों को अब सीबीआई के सवाल का जवाब देना होगा. वहीं सीबीआई की इस कार्रवाई के बाद बिहार में एक बार फिर राजनीतिक घमासान छिड़ सकता है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस साल अगस्त में बीजेपी का साथ छोड़कर महागठबंधन के साथ मिलकर सरकार बना ली थी. राज्य में महागठबंधन सरकार बनने के बाद से लगातार भाजपा का कहना है कि नीतीश कुमार ने उन लोगों से हाथ मिलाया है जो भ्रष्टाचार में शामिल रहे हैं. 

बताते चलें कि कुछ दिन पहले ही सिंगापुर में लालू की किडनी का ऑपरेशन करवाया गया है. उनकी बेटी रोहिणी आचार्य ने उन्हें अपना किडनी डोनेट किया है. लालू यादव अभी भी हॉस्पिटल में हैं और उनका इलाज चल रहा है. ऐसे में लालू यादव के खिलाफ सीबीआई जांच शुरू होने से उनके परिवार की परेशानी बढनी तय है. साथ ही राज्य के विपक्षी दलों को भी इसी बहाने सरकार पर हमला बोलने का एक और मौका मिल सकता है. 

सूत्रों के अनुसार सीबीआई ने जो जांच शुरू की है उसमें लालू प्रसाद यादव पर आरोप है कि उन्होंने रियल एस्टेट कंपनी डीएलएफ से दक्षिणी दिल्ली में एक प्रॉपर्टी रिश्वत के तौर पर हासिल की थी. डीएलएफ इसके बदले मुंबई के बांद्रा में रेलवे की जमीन का प्रोजेक्ट और नई दिल्ली रेलवे स्टेशन में सुधार का प्रोजेक्ट हासिल करना चाहती थी.


Find Us on Facebook

Trending News