परीक्षा में फर्जी छात्रों पर रोक लगाने के लिए बिहार बोर्ड उठाने जा रहा है बड़ा कदम, फॉर्म भरने के साथ ही लिए जाएंगे फिंगर प्रिंट

परीक्षा में फर्जी छात्रों पर रोक लगाने के लिए बिहार बोर्ड उठाने जा रहा है बड़ा कदम, फॉर्म भरने के साथ ही लिए जाएंगे फिंगर प्रिंट

PATNA : 10वीं और 12वीं की परीक्षा का परिणाम रिकॉर्ड समय में जारी कर नई उपलब्धि हासिल करनेवाले बिहार बोर्ड जल्द ही ऐसा कदम उठाने जा रहा है, जिसके बाद परीक्षा के दौरान फर्जी मुन्नाभाई की एंट्री लगभग खत्म हो जाएगी। इसके लिए बिहार बोर्ड ने फैसला किया है कि सभी हाई स्कूलों में बायोमेट्रिक मशीन लगाए जाएंगे। साथ ही आर्टिफिशन इंटेलिंजेंस प्रणाली को लागू किया जाएगा। जिससे फर्जी फोटो डालकर परीक्षा देनेवालों को तुरंत पकड़ लिया जाएगा

बिहार बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बिहार बोर्ड की आनेवाली तैयारियों को लेकर कहा कि बिहार में मैट्रिक और इंटर परीक्षा में अब भी बड़ी संख्या में मुन्ना भाई पकड़े जाते हैं। हमारी कोशिश है कि पूरी प्रणाली को इतना मजबूत कर दिया जाए कि फर्जी छात्र परीक्षा में शामिल नहीं हो पाएं।

60 लाख बच्चों के लिए जाएंगे फिंगर प्रिंट

बिहार बोर्ड ने साफ कर दिया है कि जल्द ही राज्य के सभी हाईस्कूलों में बायोमेट्रिक मशीन लगाए जाएंगे। जिसमें कक्षा नौंवी से लेकर 12वीं तक के सभी छात्रों के फिंगरप्रिट लिए जाएंगे। बिहार बोर्ड की मानें तो इस तरह लगभग 60 लाख छात्रों के फिंगरप्रिंट रिकॉर्ड बोर्ड के पास उपलब्ध होंगे। बोर्ड के अनुसार नौंवी और 11वीं में रजिस्ट्रेशन करवाने के दौरान और मैट्रिक और 12वीं में परीक्षा फॉर्म भरने के दौरान यह फिंगर प्रिंट लिए जाएंगे। इसके अलावा आर्टिफिशेन इंटेलीजेंस इस सत्र से लागू किया जाएगा,जिसमें फर्जी फोटो लगाकर परीक्षा देनेवाले की पहचान आसानी से हो जाएगी। 

इसक साथ एक बड़ा बदलाव होने जा रहा है. वह है छात्रों का आधार वेरिफिकेशन. इससे प्रमाण पत्र में त्रुटि होने पर आसानी से सुधार किया जा सकेगा


Find Us on Facebook

Trending News