अपनी ही पार्टी में बम फोड़ रहे हैं यह बड़बोले नेता, जानिए कौन हैं वो

अपनी ही पार्टी में बम फोड़ रहे हैं यह बड़बोले नेता, जानिए कौन हैं वो

पटना। विभिन्न राजनीतिक पार्टियां देश में काम कर रही हैं कई सत्ता में हैं तो कई राजनीतिक पार्टियां सत्ता से बाहर विपक्ष की भूमिका में हैं विभिन्न पार्टियों के प्रवक्ता नेताओं के बयान आपने सुने होंगे देखे होंगे आइए आज हम आपको विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के उन नेताओं से रुबरु कराते हैं। जो अपनी पार्टी में बम फोड़ने के लिए जाने जाते हैं। अपने बयानों के जरिए उन्हें खूब सुर्खियां मिलती है और मौका सियासत का बन ही जाता है।

भरत लाल सिंह - कांग्रेस

इस लिस्ट में पांचवें नंबर पर हैं कांग्रेस के पूर्व विधायक भरत लाल सिंह की। यूं तो कांग्रेस में  सोनिया गांधी से लेकर राहुल गांधी तक पूरे देश भर में कई ऐसे नेता है प्रवक्ता है जो बयान देते हैं। लेकिन दिनों बिहार के इस पूर्व विधायक ने ऐसा बयान दे दिया कि पटना से लेकर नई दिल्ली तक पूरे कांग्रेस में भूचाल आ गया। भरत लाल सिंह अपने बयान में कह दिया कि पार्टी के 19 में 17 विधायक पाला बदलनेवाले हैं और इसके लिए पूरी तैयारी कर ली गई है। बस फिर क्या था कांग्रेस के साथ बिहार के सियासी गलियारों में यह चर्चा शुरू हो गई कि अब बिहार में कांग्रेस का खात्मा तय है।

संजय पासवान - भाजपा

अब बात भारतीय जनता पार्टी की देश में कई राष्ट्रीय प्रवक्ता है लेकिन बात बिहार के एमएलसी भारतीय जनता पार्टी के कद्दावर नेता संजय पासवान की करें तो पार्टी लाइन से अलग हट कर दिए गए बयान मानव किसी भूकंप से कम नहीं। इंडिया के अंदर बड़ा भाई छोटा भाई या फिर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ऊपर अपने सहयोगी पार्टी के ऊपर कब कहां और किस तरह से बयान देना है संजय पासवान भली भांति जानते हैं उनके बयान का असर कुछ महीनों बाद दिखाई देता है ताजा राजनीतिक हालात पर संजय पासवान दो टूक कह कर बहुत कुछ कह जाते हैं।

शिवानंद तिवारी - राजद  

अब बात राष्ट्रीय जनता दल की लालू प्रसाद यादव राजद सुप्रीमो पिछले कई महीनों से सत्ता के गलियारों से बाहर है लेकिन राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी राजद के बम फोड़ नेता के तौर पर जाने जाते हैं अपने ही पार्टी के भावी मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को नसीहत देने में भी यह गुरेज नहीं करते कब कहां और कैसे कितनी देर तक बोलना है वरिष्ठ शिवानंद तिवारी उर्फ बाबा के बयान से खलबली मच जाती है। कुछ दिन पहले ही उन्होंने राहुल गांधी की राजनीतिक समझ को लेकर बयान जारी कर दिया था, जिसके बाद राजद को उनके बयान से किनारा करना पड़ गया था और कांग्रेस के साथ अपने पुराने रिश्ते की दुहाई देनी पड़ गई थी।

जीतन राम मांझी - हम

हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की इनका बयान भले ही सीधा-साधा हो। लेकिन जब बयान दे देते हैं तो सियासी गलियारे में खलबली मच जाती है। मुख्यमंत्री के कार्यकाल में भी मांझी ने कई बम फोड़े और जब नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री से अलग कर दिया तो उसके बाद भी मांझी बम फोड़ फोड़ कर दिवाली मनाते रहे हाल के दिनों में मंत्रिपरिषद विस्तार को लेकर भी मांझी के एक एमएलसी और एक मंत्री के बयान में एनडीए में खलबली मचा दी। मांझी के बयानों से कई बार उनके ही पार्टी नेताओं को यह स्पष्ट करना पड़ता है कि एनडीए के साथ हैं या राजद के साथ।

गोपाल मंडल - जदयू

इस लिस्ट में सबसे टॉप पर हैं गोपालपुर विधायक गोपाल मंडल। चौथी बार विधायक बने गोपाल मंडल खुद को दबंग बताते हैं।  इन दिनों गोपाल मंडल अपनी ही पार्टी के बम पूर्व नेता साबित हो रहे हैं जिन्होंने अपनी ही सरकार को 6 महीने के भीतर गिरने का बड़ा बयान दिया और विपक्ष की वकालत करते हुए तेजस्वी यादव को भावी मुख्यमंत्री तक घोषित कर चुके हैं आपको बता दें कि गोपाल मंडल बीच-बीच में मंच पर डांस करते हुए भी कई बार सुर्खियां बटोर चुके हैं गोपाल मंडल जब भी कुछ बोलते हैं मामला विवादित हो ही जाता है। तेजस्वी के सीएम बनाने की घोषणा के कारण जदयू को उनके बयानों से किनारा करना पड़ा।

यहां हमें बताएं कि अपनी ही पार्टी से के लिए बमफोड़ू साबित हो रहे इन नेताओं से आप  कितने सहमत हैं।


Find Us on Facebook

Trending News