BIHAR NEWS: अभी नहीं मिलेगा शिक्षकों को बढ़ा हुआ वेतन, स्वीकृति के लिए अभी प्रस्ताव वित्त विभाग के पास

BIHAR NEWS: अभी नहीं मिलेगा शिक्षकों को बढ़ा हुआ वेतन, स्वीकृति के लिए अभी प्रस्ताव वित्त विभाग के पास

पटना: सूबे के सरकारी स्कूलों में प्रारंभिक, माध्यमिक व उच्च माध्यमिक स्कूलों में त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थाओं के अधीन नियुक्त शिक्षकों को 15 प्रतिशत बढ़े वेतन के लिए अभी इंतजार करना होगा। इन स्कूलों में करीब पौने चार लाख शिक्षक कार्यरत हैं। अभी इनको कुछ माह तक पुराने वेतन संरचना पर ही लाभ लेना होगा। मिली जानकारी के अनुसार वित्त विभाग से स्वीकृति मिलने पर अप्रैल 2021 के प्रभाव से शिक्षकों को मूल वेतन में 15 प्रतिशत राशि एरियर के रूप में मिलेगी। शिक्षा विभाग से मिली जानकारी के अनुसार बढ़े वेतन का प्रस्ताव वित्त विभाग को भेजा गया है, स्वीकृति मिलने के साथ ही वेतन वृद्धि का लाभ देय होगा।

पिछले साल ही लिया गया था निर्णय

ज्ञात हो कि पिछले साल सितंबर महीने में राज्य सरकार ने सूबे के सभी नियोजित शिक्षकों के मूल वेतन में 15 प्रतिशत की वृद्धि व इपीएफ का लाभ देने का निर्णय लिया था। मंत्रीमंडल की स्वीकृति मिलने के बाद शिक्षा विभाग द्वारा इस बारे में संकल्प भी जारी किया गया था। निर्णय में शिक्षकों के वर्तमान वेतन संरचना में एक 2021 को देय मूल वेतन में 15 प्रतिशत की वृद्धि पर शामिल था। शिक्षकों को अप्रैल 2021 से ही यह लाभ मिलना था, लेकिन इस सप्ताह शिक्षा विभाग ने शिक्षकों के वेतन भुगतान के लिए जो स्वीकृत्यादेश जारी किया है, उसमें स्पष्ट कहा गया है कि 15 प्रतिशत वेतन वृद्धि के क्रियान्वयन के संबंध में विभाग के स्तर से औपचारिक आदेश निर्गत किये जाने तक पूर्व से निर्धारित वेतन संरचना में ही वेतन देय होगा। 

बदल जायेगी शिक्षकों की वेतन तालिका

जानकारी के अनुसार शिक्षा विभाग ने वित्त विभाग को इससे संबंधित प्रस्ताव भेजा है। मूल वेतन में वृद्धि के साथ ही सभी शिक्षकों की वेतन तालिका भी बदल जाएगी। वित्त विभाग से अनुमोदन मिलते ही सभी नियोजित शिक्षकों को उनके मूल वेतन में 15 प्रतिशत बढ़ोतरी के साथ वेतन भुगतान को लेकर जिलों के लिए विस्तृत गाइडलाइन जारी होगी। इन तमाम प्रक्रियाओं के पूरी होने तक शिक्षकों को वेतन की बढ़ी राशि के लिए अभी इंतजार ही करना होगा।

Find Us on Facebook

Trending News