आकर्षण का केंद्र बना ग्लास ब्रीज, लेकिन बढ़ती भीड़ ने बढ़ाई अधिकारियों की चिंता, एक दिन में सिर्फ इतने लोगों को जाने की मिली छूट

आकर्षण का केंद्र बना ग्लास ब्रीज, लेकिन बढ़ती भीड़ ने बढ़ाई अधिकारियों की चिंता, एक दिन में सिर्फ इतने लोगों को जाने की मिली छूट

PATNA : राजगीर में बना ग्लास ब्रिज पर्यटकों के लिए नया आकर्षण का केंद्र बन गया है। बड़ी संख्या में लोग इस खूबसूरत ब्रिज को देखने के लिए पहुंच रहे हैं। देश के दूसरे ग्लास स्काईवॉक ब्रिज पर चलने वाले पर्यटकों की भीड़ रोजाना उमड़ रही है. लेकिन यह भीड़ पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग व अधिकारियों के लिए चिंता का विषय भी बन गया है। 

दरअसल, देश के दूसरे ग्लास ब्रिज पर एक बार में 15 से 17 लोगों का भार सहने की क्षमता है। जबकि इसे देखने के लिए हर दिन 2500 के करीब लोग पहुंच रहे हैं। ऐसे में ब्रिज पर लोगों की भीड़ कम करने के लिए हर दिन आनेवाले पर्यटकों की संख्या सीमित कर दी गई है। पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग ने ब्रिज की क्षमता को देखते हुए अब रोजाना ग्लास स्काइवॉक पर जाने वालों की संख्या 800 कर दी गई है।

हवा में ट्रांसपैरेंट ब्रिज पर चलना बेहद रोमांचकारी

विभाग का मानना है कि स्काइवॉक पर जाने वाले लोग10 से 15 मिनट तक रुकते हैं और फोटो भी खिंचवाते हैं. 250 फुट की ऊंचाई पर बने इस ट्रांसपैरेंट ब्रिज के रोमांच का पूरा लुत्फ उठाना चाहते हैं,  इस पर चलते हुए लोग खुद को हवा में तैरता हुआ महसूस करते हैं. जिसके कारण एक दिन में सभी लोग वहां नहीं जा सकते हैं।

ऑनलाइन टिकट की सुविधा

जिसके कारण लोगों की सुविधा को देखते हुए 25 प्रतिशत टिकट ऑनलाइन करने की तैयारी चल रही है. यानी अगर रोजाना 800 टिकट जारी किये जाएंगे तो करीब 200 लोग ऑनलाइन टिकट ले सकेंगे. ग्लास स्काईवॉक पर सैर के लिए टिकट का दर 125 रुपया रखा गया है.


Find Us on Facebook

Trending News