उत्पाद विभाग की फर्जी टीम बनाकर बिहार पुलिस के जवान ने की छापेमारी, ग्रामीणों ने किया जमकर बवाल, एसपी ने की कार्रवाई

उत्पाद विभाग की फर्जी टीम बनाकर बिहार पुलिस के जवान ने की छापेमारी, ग्रामीणों ने किया जमकर बवाल, एसपी ने की कार्रवाई

BAGAHA : जिले में उत्पाद विभाग की फर्जी टीम के पकड़े जाने का मामला सामने आया है। मिली जानकारी के अनुसार बगहा थाना क्षेत्र के मच्छरगांवा मटियरिया गांव में पुलिस के कुछ जवान प्राइवेट लोगों के साथ टीम बनाकर शराब के खिलाफ छापेमारी करने गए थे। इस टीम का नेतृत्व पुलिस विभाग का सिपाही भानु प्रताप सिंह कर रह था। 


इस दौरान टीम द्वारा एक युवक के साथ मारपीट शुरू कर दी गई, जिसके बाद ग्रामीण भड़क गए। इसको लेकर ग्रामीणों द्वारा नजदीकी उत्पाद विभाग को यह जानकारी दी गई कि उनके तरफ से भेजी गई टीम द्वारा ग्रामीणों पर हमला किया जा रहा है। सबसे बड़ी सच्चाई यही से निकल कर सामने आई। उत्पाद विभाग के तरफ से कहा गया कि, हमारे तरफ से कोई भी टीम छापेमारी के लिए नहीं भेजी गई है।

इस पूरे मामले में सबसे बड़ी बात यह है कि गांव में छापेमारी करने आई उत्पाद विभाग की इस फर्जी टीम का नेतृत्व पुलिस में तैनात एक सिपाही कर रहा था। गांव वालों को जैसे ही इस बात की भनक लगी तो बवाल मच गया। गांव में शराब के खिलाफ छापामारी करने पहुंची नकली टीम में शामिल पुलिस के जवान को पकड़कर ग्रामीणों ने जमकर पिटाई कर दी। घंटों तक सभी को बंधक बनाकर रखा गया। इसके बाद उक्त पुलिसकर्मी को स्थानीय सेमरा पुलिस को सौंप दिया। 

इधर पुलिस महकमे में भी फर्जी छापामारी की खबर मिलते ही हड़कंप मच गया है। इस मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए पुलिस अधीक्षक किरण कुमार ने आरोपित सिपाही को निलंबित कर दिया है। मामले की जांच एसडीपीओ कैलाश प्रसाद को सौंप दी है। इस संबंध में एसपी किरण कुमार गोरख जाधव का कहना है कि मामले की जानकारी मिलते ही दोषी सिपाही को निलंबित कर एसडीपीओ को जांच सौंप दी गई है। इसमें जो भी जवान शामिल होगा, उन पर भी कार्रवाई की जाएगी। आरोपित सिपाही की पहचान भानु प्रताप सिंह के तौर पर हुई। ग्रामीणों ने बताया जाता है कि छापामारी के नाम पर पुलिस के जवान स्थानीय युवकों के साथ मिलकर इसी तरह अवैध वसूली करते हैं।

बगहा से माधवेन्द्र पाण्डेय की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News