बिहार सरकार ने लालू-राबड़ी को दिया जेड प्लस की सुरक्षा, कई नेताओं से सुरक्षा ली गई वापस

PATNA: बिहार सरकार ने विशिष्ट व्यक्तियों के लिए सुरक्षा का वर्गीकरण किया है. इस संबंध में गृह विभाग ने नेताओं की सुरक्षा कैटेगरी को लेकर डीजीपी को पत्र लिखा है. इसके तहत 6 नेताओं और विशिष्ट लोगों की सुरक्षा को वापस लिया गया है. जबकि राज्यपाल-मुख्यमंत्री सहित कुल 32 नेताओं की सुरक्षा श्रेणीकरण तय किए गए हैं.

जिन नेताओं और विशिष्ट लोगों की सुरक्षा वापस लिए गए हैं उनमे रामनाथ कोविंद तत्कालीन राज्यपाल (बिहार), दिवंगत होने की वजह से डीएन सहाय और मो. तस्लीमुद्दीन  की सुरक्षा को विलोपित किया गया है. जबकि राज्यसभा सांसद प्रेमचंद गुप्ता की सुरक्षा भी वापस ली गई है. इनका घर बिहार में नहीं होने की वजह से सुरक्षा वापस ली गई है. जबकि अवनीश कुमार सिंह पूर्व विधायक की सुरक्षा को कोई विशिष्ट खतरे की सूचना नहीं होने की वजह से वापस ले ली गई है. 

किनको मिली है जेड प्लस सुरक्षा

जेड प्लस और विशेष प्रोटेक्टी की सुरक्षा बिहार के राज्यपाल और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को है जबकि लालू प्रसाद और राबड़ी देवी को जेड प्लस की सुरक्षा तय किया गया है. जबकि जीतनराम मांझी ,सुशील कुमार मोदी, ललन सिंह, शहनवाज हुसैन, रामविलास पासवान, वशिष्ठ नारायण सिंह, अशोक चौधरी और शत्रुध्न सिन्हा को जेड श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गई है. वहीं वाई प्लस की सुरक्षा पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार और तेजस्वी प्रसाद यादव को प्रदान किया गया है.

17 नेताओं को वाई श्रेणी की सुरक्षा मिली है

गृह विभाग ने बिहार के 17 नेताओं को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की है. इनमें उदय नारायण चौधरी, मुख्य न्यायाधीश पटना, पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह, राज्य सभा सांसद अखिलेश सिंह, शरद यादव, शकील अहमद, पशुपति कुमार पारस, रणविजय सिंह, डॉ जगन्नाथ मिश्रा, सुशील कुमार सिंह सांसद, पी.के.शाही, राजीव प्रताप रूढी, राधामोहन सिंह, रविशंकर प्रसाद, मदनमोहन झा, नित्यानंद राय, तेजप्रताप यादव और अनिल कुमार पूर्व मंत्री शामिल हैं.

बिहार सरकार नें 28 फरवरी 2019 को राज्य सुरक्षा समिति की बैठक बुलाई थी. बैठक में बिहार के विशिष्ट व्यक्तियों की सुरक्षा के वर्गीकरण पर मुहर लगी थी. इसके बाद गृह विभाग ने इस संबंध में सुरक्षा तय कर पुलिस मुख्यालय को भेज दिया है. 

Find Us on Facebook

Trending News