तेज पर FIR के बाद हमलावर हुई BJP – JDU, कहा – लालू परिवार के DNA में है संपत्ति की हेराफेरी और अवैध संपत्ति का सृजन करना

तेज पर FIR के बाद हमलावर हुई BJP – JDU, कहा – लालू परिवार के DNA में है संपत्ति की हेराफेरी और अवैध संपत्ति का सृजन करना

PATNA : संपत्ति छिपाने को लेकर चुनाव आयोग द्वारा लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के बाद लालू परिवार के खिलाफ अब भाजपा और जदयू की तरफ हमला तेज हो गया है। जहां जदयू के मुख्य प्रवक्ता नीरज कुमार ने संपत्ति छिपाने को लालू परिवार के DNA से जोड़ दिया है। वहीं दूसरी तरफ भाजपा ने कहा कि तेज प्रताप अक्सर कहते हैं कि उनमें लालू प्रसाद की छवि है। उन पर हुए एफआईआर ने यह साबित कर दिया है कि जिस तरह लालू भ्रष्टाचार में लिप्त रहे, उसी नक्शे कदम पर अब उनके बेटे भी चलने लगे हैं।

जदयू ने किया जोरदार हमला

हसनपुर से विधायक तेज प्रताप पर एफआईआर दर्ज होने के बाद लालू परिवार पर बड़ा हमला करते हुए जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि लालू प्रसाद और तेजस्वी यादव के खिलाफ पहले से ही अवैध संपत्ति अर्जित करने का मामला चल रहा है, ऐसे में तेज प्रताप कैसे पीछे रह जाते। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग ने लालू परिवार का फर्जी सामाजिक न्याय को बेनकाब कर दिया है। यह उनके राजनितिक डीएनए में है संपत्ति सृजन करना। संपत्ति की हेराफरी, संपत्ति सृजन और फर्जी सामाजिक न्याय का पर्याय रहा है लालू का परिवार। इसलिए आज जो हो रहा है, वह लालू परिवार की राजनीतिक व न्यायिक दुर्गति का एक अंश भर है।


भाजपा ने कहा – तेज प्रताप ने साबित किया वह लालू के बेटे

वहीं तेज प्रताप के खिलाफ हुए प्राथमिकी के बाद भाजपा की तरफ से भी बड़ा हमला किया गया है। पार्टी प्रवक्ता अफजर शम्सी ने कहा कि तेज प्रताप ने साबित कर दिया है, सही मायने में वह लालू प्रसाद – 2 हैं। उन्होंने कहा लालू जी और तेज प्रताप दोनों का वर्किंग कल्चर एक  ही है। जिस प्रकार राजद के जमाने में भ्रष्टाचार था, आज तेज प्रताप ने उसे सही साबित कर दिया है। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि अगर तेज प्रताप ने डॉक्यूमेंट में किसी प्रकार की गड़बड़ी की है, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। क्योंकि यह सामान्य बात नहीं है। यह एक बड़े चुनाव से जुड़ा हुआ है।

हम ने  कहा सिर्फ तेज प्रताप नहीं लिस्ट में कई नाम शामिल

वहीं जीतनराम मांझी की पार्टी हम ने भी तेज प्रताप के खिलाफ हुए एफआईआर का स्वागत किया है। पार्टी प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि इस तरह डॉक्यूमेंट छिपाने का काम सिर्फ तेज प्रताप ने नहीं किया है। कई सांसद और विधायक भी गलत एफेडेविट दायर कर चुनाव लड़े हैं। उनके खिलाफ भी चुनाव आयोग को जांच और कार्रवाई करनी चाहिए। ताकि बिहार में एक नजीर पेश किया जा सके।

बता दें कि हसनपुर से विधायक और राजद सुप्रीमो लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप के खिलाफ समस्‍तीपुर जिले के रोसड़ा थाने में एफआइआर कराई गई है. उनपर 2020 के विधानसभा चुनाव में गलत शपथ पत्र दाखिल करने का आरोप लगाया गया है. हसनपुर विधानसभा के निर्वाची पदाधिकारी व डीसीएलआर सह एसडीओ ब्रजेश कुमार के आवेदन पर लोक प्रतिनिधित्‍व अधिनियम 1951 की धारा 125 क के तहत मामला दर्ज कराया गया है. उनपर संपत्ति छिपाने का आरोप है.

Find Us on Facebook

Trending News