नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के पत्र पर भाजपा ने साधा निशाना, ईमानदार नहीं बल्कि शातिराना बेईमानी भरा पत्र है

नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के पत्र पर भाजपा ने साधा निशाना, ईमानदार नहीं बल्कि शातिराना बेईमानी भरा पत्र है

PATNA : बिहार भाजपा प्रवक्ता डॉ० निखिल आनंद ने तेजस्वी यादव द्वारा विधानसभा अध्यक्ष को लिखे पत्र को हवाबाजी करार देते हुए कहा है कि उदंडतापूर्ण हरकत से विधानसभा की अक्षुण्णता पर सवालिया निशान लगाने वाले विधायकों और विधान पार्षदों को क्लीन चिट नहीं दिया जा सकता है। तेजस्वी का पत्र विधानसभा में नेता विपक्ष के ओहदे के लिहाज से ईमानदार नहीं बल्कि शातिराना बेईमानी भरा पत्र है।

डॉ० निखिल आनंद ने कहा कि तेजस्वी अगर ईमानदार होते तो विधानसभा की स्थापना के 100वें वर्ष में नैतिक स्टैंड लेते और कर्मचारियों एवं अधिकारियों पर कार्रवाई की बात करते हुए विधानसभा की गरिमा और मर्यादा तार- तार करने वाले विधायकों- विधान पार्षदों पर भी कार्रवाई की माँग करते। विधानसभा में अध्यक्ष को बंधक बनाने की कोशिश और फिर सदन के भीतर प्रॉक्सी स्पीकर बनकर कार्यवाही का संचालन करना एक ऐसा अपराध है जिसके लिए दंड का भागी किसी न किसी को तो होना ही चाहिए। 

निखिल आनंद ने सवाल पूछते हुए कहा कि तेजस्वी यादव जब पत्र लिख रहे थे तो क्या उन्हें खुद की अपने भाई के साथ कि गई हरकत याद है कि कैसे विधानसभा अध्यक्ष की कुर्सी पर कब्ज़ा जमा कर वहीं खड़े होकर दोनों भाई अपने विधायकों को उदंडता के लिए उसका कर निर्देशित कर रहे थे? निखिल ने विधानसभा अध्यक्ष से माँग किया है कि विधानसभा की दुर्भाग्यपूर्ण घटना में शामिल जो भी अधिकारी या कर्मचारी दोषी पाए जाएं उनपर कार्रवाई हो. लेकिन विधायकों और विधान पार्षदों पर किसी भी स्थिति में कार्रवाई जरूर हो. ताकि बिहार की जनता में राज्य विधानसभा की गरिमा और अक्षुण्णता सर्वोच्च बनी रहे, उसपर सवाल उठाने की कोई हिमाकत न करे।

पटना से विवेकानंद की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News