बीजेपी सांसद का उग्रवादियों से सांठगांठ, पैसा बांटकर अपनी ही पार्टी के कई प्रत्याशियों को हरवाया

बीजेपी सांसद का उग्रवादियों से सांठगांठ, पैसा बांटकर अपनी ही पार्टी के कई प्रत्याशियों को हरवाया

पटना... बिहार विधानसभा का चुनाव परिणाम आ चुका है। इस चुनाव में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के रूप में अप्रत्याशित तरीके से उभर कर सामने आई है। वहीं भाजपा के टिकट से चुनाव लड़कर हारने वाले नेताओं ने अपने ही क्षेत्र के भाजपा के नेताओं और कार्यकर्ताओं पर अब गंभीर आरोप लगाते हुए दिखाई दे रहे हैं। इस बीच फेसबुक लाइव करके औरंगाबाद से बीजेपी प्रत्याशी रामाधार सिंह ने सांसद सुशील कुमार सिंह पर एक के बाद एक कई गंभीर आरोप लगाए और चुनाव में हार का सारा ठीकरा सांसद पर फोड़ दिया। 

औरंगाबाद से भाजपा की टिकट पर चुनाव लड़ने वाले रामाधार सिंह की हार हो चुकी है। इसके बाद रामाधार सिंह ने औरंगाबाद के ही सांसद सुशील कुमार सिंह पर कई बड़े गंभीर आरोप लगा दिए हैं। 

भाजपा प्रत्याशी रामाधार सिंह ने कहा कि सांसद सुशील कुमार सिंह के उग्रवादियों के संगठन से सांठगांठ है और उन्हीं के दम पर वो चुनाव में अपने लोगों को फायदा भी पहुंचाने में लगे हैं। सांसद सुशील सिंह खुद भी अवैध रूप से हथियार रखते हैं और हथियारों के जखीरा का सप्लाई भी करते हैं। 

रामाधार सिंह ने कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव में औरंगाबाद लोकसभा क्षेत्र के औरंगाबाद, कुंटुबा और गुरुआ विधानसभा से एनडीए के प्रत्याशी को हराने के लिए 3 करोड़ से अधिक की राशि खर्च की है। औरंगाबाद से कैसे भाजपा हारी किसी से छुपा नहीं है। कुटुंबा से हम के प्रत्याशी और गुरुआ से भाजपा प्रत्याशी कैसे हारे सभी जानते हैं। वहीं, औरंगाबाद के सांसद सुशील कुमार सिंह ने मुझे हराने के लिए तथाकथित ठेकेदारों से स्वयं और अपने रिश्तेदारों से 3 करोड़ की रकम राशि इकठ्ठा करके हर गांव में पैसे बांटवाए। 

उन्होंने सुशील कुमार सिंह पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि मदनपुर में जो अनियमित ढं़ग से पहाड़ काटा जा रहा है वो सुभाष यादव की कंपनी के नाम से चल रह है और उस कंपनी में उनके साले का बेटा भी पार्टनर है। सांसद और उनके रिश्तेदार को डर हुआ कि मैं जीत जाउंगा तो उनका काम बंद हो जाएगा, लेकिन मैं दावा कर रहा हूं कि वो काम अब भी बंद होगा।

रामाधार सिंह ने कहा कि पूरे राज्य में शराबबंदी है, लेकिन क्षेत्र में शराब बिक रहा है और सभी शराब माफिया उनके साथी हैं। 

हम पार्टी के प्रत्याशी को हराने के लिए 30 से 40 लाख रुपया खर्च कर श्रवण भूयां के समक्ष ललन भूयां को खड़ा किया। वहां पैसा दिया गया। सांसद ने गुरुआ विधानसभा में दांगी समाज से आने वाला विधायक के खिलाफ कई अपने लोगों को खड़ा कराया। इतनाही नहीं अपने लोकसभा क्षेत्र के सभी 9 विधानसभा सीटों पर एनडीए को हराने का प्रयास किया। आपको बता दें कि इमामगंज हम के प्रत्याशी जीतन राम मांझी जहां से चुनाव लड़ रहे थे, उन्हें हराने के लिए लोजपा प्रत्याशी को अपना मकान दिया। 

इससे पूर्व रामाधार सिंह ने हारने के बावजूद औरंगाबाद के मतदाताओं को धन्यवाद दिया और कहा कि मुझे चुनाव में 68 हजार वोट देने के लिए आप सभी का मैं दिल से धन्यवाद करता हूं। जिन लोगांे ने मुझे और कांग्रेस को वोट दिया है मैं उनके लिए क्षेत्र में सदैव सक्रिय रहूंगा। मैं दावे से कहता हूं कि चुने गए विधायक से 10 गुना अधिक काम औरंगाबाद क्षेत्र के लिए करुंगा। 



Find Us on Facebook

Trending News