CBSE 12th RESULTS: 31 जुलाई को जारी किए जाएंगे 12वीं बोर्ड के नतीजे, केंद्र सरकार ने तय कर ली मार्किंग स्कीम, पढ़ें पूरी खबर

CBSE 12th RESULTS: 31 जुलाई को जारी किए जाएंगे 12वीं बोर्ड के नतीजे, केंद्र सरकार ने तय कर ली मार्किंग स्कीम, पढ़ें पूरी खबर

DESK: कोरोनाकाल में बच्चों की सेहत को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने ऐतिहासिक फैसला लेते हुए पहले 10वीं और फिर 12वीं की परीक्षा को स्थगित कर दिया। पहले सरकार 12वीं की परीक्षाएं कराने के पक्ष में थी, मगर छात्रों, पैरेंट्स, राज्यों का दबाव और कोरोना की लहर ने केंद्र की मोदी सरकार को 12वीं की परीक्षा रद्द करने पर मजबूर कर दिया। परीक्षा स्थगित होने के बाद सबसे बड़ा सवाल यह था कि छात्रों की मार्किंग का आधार क्या रहेगा? इस संबंध में कई बैठकों और प्रस्तावों पर विचार करने के बाद केंद्र सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट में स्थिति साफ कर दी गई है। बता दें, 12वीं के छात्रों का रिजल्ट 31 जुलाई को जारी किया जाएगा, और इसका आधार होगा 30­:30:40 का फॉर्मूला।

CBSE बोर्ड की 12वीं कक्षा का रिजल्ट तैयार करने को लेकर बनी 13 सदस्यीय कमेटी ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में अपनी रिपोर्ट सौंप दी। इसमें बोर्ड ने रिजल्ट जारी करने के फॉर्मूले के बारे में बताया है। बोर्ड के मसौदे के मुताबिक, 10वीं, 11वीं के फाइनल रिजल्ट और 12वीं के प्री-बोर्ड के रिजल्ट को फाइनल रिजल्ट का आधार बनाया जाएगा। अगर सब कुछ सही रहा, तो 31 जुलाई तक रिजल्ट जारी कर दिए जाएंगे। 12वीं की मार्केशीट तैयार करने की डिटेल देते हुए CBSE ने कहा कि 10वीं के 5 विषय में से 3 विषय के सबसे अच्छे मार्क को लिया जाएगा। इसी तरह 11वीं के पांचों विषय का एवरेज लिया जाएगा और 12वीं के प्री-बोर्ड एग्जाम या प्रैक्टिकल का नंबर लिया जाएगा। बोर्ड ने बताया कि 10वीं के नंबरों को 30%, 11वीं के नंबर को 30% और 12वीं के नंबर को 40% वेटेज दिया जाएगा। जो बच्चे परीक्षा देना चाहते हैं, उनके लिए बाद में अलग व्यवस्था की जाएगी। 

कोरोना महामारी के बीच केंद्र सरकार ने 1 जून को देशभर में 12वीं बोर्ड के एग्जाम कैंसिल कर दिए थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने परीक्षा रद्द करने की घोषणा के साथ कहा था कि 12वीं का रिजल्ट तय समय सीमा के भीतर और तार्किक आधार पर तैयार किया जाएगा। ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि आखिर स्टूडेंट्स का असेसमेंट किस आधार पर होगा। सीबीएसई ने 4 जून 2021 को ईवैल्यूएशन क्राइटेरिया तय करने के लिए 13 सदस्यीय कमेटी का गठन किया था। 12वीं मूल्यांकन नीति तय करने के लिए समिति को दस दिन का समय दिया गया था। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और सीबीएसई को ईवैल्यूएशन क्राइटेरिया तय करने के लिए दो सप्ताह का समय दिया था।

Find Us on Facebook

Trending News