मुख्य चुनाव आयुक्त का बड़ा बयान, दिसंबर में लोकसभा और 4 राज्यों के विधानसभा चुनाव कराने में आयोग सक्षम

मुख्य चुनाव आयुक्त का बड़ा बयान, दिसंबर में लोकसभा और 4 राज्यों के विधानसभा चुनाव कराने में आयोग सक्षम

NEW DELHI :  मुख्य चुनाव आयुक्त ने लोकसभा चुनाव को लेकर बड़ा बयान दिया है। मुख्य चुनाव आयुक्त  ओपी रावत ने बुधवार को कहा कि यदि लोकसभा चुनाव समय से पहले खिसकाया जाता है तो चुनाव आयोग लोकसभा और चार राज्य विधानसभाओं का चुनाव एकसाथ दिसम्बर में कराने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि इसके लिए जरूरी 17.5 लाख में से 1.5 लाख वीवीपैट मशीनें आयोग को नवम्बर के अंत में मिलेंगी।

मुख्य चुनाव आयुक्त रावत की यह टिप्पणी इस सवाल पर आयी कि यदि लोकसभा चुनाव मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, मिजोरम और राजस्थान विधानसभा चुनाव के साथ दिसम्बर में हो तो क्या चुनाव आयोग उसके लिए तैयार है। उन्होंने कहा, ‘‘क्यों नहीं। कोई समस्या नहीं होगी।’’ 

कुछ हलकों में ऐसी अटकलें हैं कि अप्रैल...मई 2019 में प्रस्तावित लोकसभा चुनाव को खिसका कर नवम्बर..दिसम्बर 2018 में मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, मिजोरम और राजस्थान विधानसभा चुनाव के साथ कराया जा सकता है। रावत के बयान ने इन अटकलों को बल दे दिया है।

यह पूछे जाने पर कि क्या जरूरी ईवीएम और मतदान की पर्ची देने वाली मशीनें (वीवीपैट) तैयार रहेंगी, यदि लोकसभा चुनाव इन चार विधानसभा चुनाव के साथ दिसंबर में कराये जाएं, सीईसी ने कहा कि सभी जरूरी ईवीएम सितम्बर अंत तक तैयार हो जाएंगी जबकि वीवीपैट मशीन नवम्बर के अंत तक आ जाएंगी। उन्होंने कहा कि 17.5 लाख वीवीपैट मशीनों में से 16 लाख नवम्बर से पहले तैयार हो जाएंगी। बाकी 1.5 लाख वीवीपैट मशीनों की आपूर्ति नवंबर के अंत तक होंगी।

गौरतलब है कि मिजोरम विधानसभा का कार्यकाल 15 दिसम्बर को समाप्त हो रहा है। छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान विधानसभाओं का कार्यकाल क्रमश: पांच जनवरी 2019, सात जनवरी और 20 जनवरी 2019 को समाप्त हो रहा है।


Find Us on Facebook

Trending News