पूर्णिया के इस परिवार के लिए जिंदगी भर का दुख दे गया छठ पर्व, कोसी की धारा में तीन भाईयों की डूबने से हुई मौत

पूर्णिया के इस परिवार के लिए जिंदगी भर का दुख दे गया छठ पर्व, कोसी की धारा में तीन भाईयों की डूबने से हुई मौत

PURNIA : बिहार में लोकआस्था के महापर्व के दौरान लाखों लोगों ने अपने परिवार की खुशियों और सुख के लिए भगवान भास्कर से मनोकामना की। वहीं कुछ परिवार ऐसे भी रहे, जिनके लिए यह छठ पर्व जिंदगी भर का गम दे गया। मामला पूर्णिया जिले से  जुड़ा है। जहां छठ पर्व के दौरान कोसी नदी की तेज धारा के साथ तीन भाई भी बहते चले गए और  डूबने से उनकी मौत हो गई। परिवार में एक साथ तीन बेटों की मौत के बाद खुशियों का माहौल मातम में बदल गया।

घटना कसबा थाना क्षेत्र के NH-57 स्थित मदरसा चौक की है. जानकारी के मुताबिक कसबा थाना क्षेत्र के NH-57 के बगल से गुजरने वाली कोसी नदी की धार में डूबने से एक ही परिवार के तीन बच्चे की मौत हो गयी. मृतक कसबा थाना के दोगची गांव के रहने वाले थे, मृतक बच्चों की पहचान बॉबी कुमार (15), हिमांशु कुमार (13) और रितिक कुमार (12) के रूप में हुई है।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार तीनों बच्चे मदरसा चौक स्थित कोसी नदी पर स्थित छठ घाट को देखने आए थे. दो भाई को स्नान करने का मन किया और वे नदी में स्नान करने के लिए चले गए। नहाने के क्रम में दोनों गहरे पानी में उतर गए और डूबने लगे। जिसे देख नदी के बाहर खड़ा तीसरा भाई अपने दोनों छोटे भाई को बचाने की कोशिश करने के लिए नदी में छलांग लगा दी. मगर वह उन्हें बचा नहीं सका और खुद भी पानी में डूब गया।

घटना की जानकारी जैसे ही परिवार वालों को मिली सभी दौड़ते हुए घटनास्थल पहुंचे. इसके बाद गोताखोरों की मदद से तीनों के शव को नदी से बाहर निकाला गया। जिसके बाद लोगों ने प्रशासन की व्यवस्था पर सवाल उठाने शुरू कर दिए। बता दें कि छठ पूजा को लेकर घाट पर मजिस्ट्रेट और SDRF की टीम को नियुक्त किया गया था. ऐसे में तीन बच्चों की मौत छठ घाट के समीप डूबने से हो गयी है. प्रशासन की लापरवाही साफ तौर पर देखी जा सकती है।


Find Us on Facebook

Trending News