चुनावी व्यस्तता में जानें तेजस्वी समेत इन नेताओं की लाइफस्टाईल ..

चुनावी व्यस्तता में जानें तेजस्वी समेत इन नेताओं की लाइफस्टाईल ..

Desk: बिहार के मुख्यमंत्री जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार की दिनचर्या प्रतिदिन सुबह पांच बजे से शुरू हो जाती है. उनकी दिनचर्या में प्रतिदिन योग अनिवार्य रूप से शामिल है. उनके शारीरिक रूप से स्वस्थ और शांत  रहने का यह एक बड़ा कारण है. चुनावी मौसम में वो पूरा दिन  व्यस्त रहते हैं.इसलिए चुनावी दौरे में उनके साथ घर में बना दोपहर का भोजन भी जाता है. प्रचार के दौरान दिन के भोजन में वह दालपूड़ी, चोखा और पेड़ा लेते हैं. साथ ही गरम पानी और नींबू वाली चाय भी रहती है. वह क्षेत्र में ही सभा के बाद हेलिकाप्टर में ही दोपहर का भोजन व चाय लेते हैं. इसके साथ ही बता दें कि उनके साथ जितने भी नेता चुनाव प्रचार में होते हैं, सबके लिए टिफिन सीएम आवास से ही जाता है.

मुख्यमंत्री रोज सुबह पांच बजे जग जाते हैं. करीब डेढ़ घंटे योग, आसन और प्राणायाम करते हैं. करीब साढ़े सात से पौने आठ बजे तक योग करने के बाद वह कुछ देर अखबार देखते हैं. इसके बाद स्नान करने के बाद नाश्ता करते हैं. नाश्ते में कभी चूड़ा-दही, कभी रोटी-सब्जी आदि लेते हैं. इसके बाद सुबह की चाय लेते हैं. अपना जरूरी कामकाज निबटा कर वह लोगों से मिलते-जुलते हैं और फिर चुनावी दौरे में निकल जाते हैं.

इसके साथ ही चुनावी दौरे से शाम करीब साढ़े पांच बजे लौटने के बाद कुछ देर आराम करते हैं. नाश्ते में भूजा खाते हैं और चाय पीते हैं. सीएम हाउस में लोगों से मिलते हैं. रात नौ बजे के आसपास खाना खाते हैं. खाने में सामान्य रूप से रोटी-सब्जी लेते हैं. इसके बाद वह रात करीब साढ़े नौ बजे के बाद सोने के लिए चले जाते हैं. नीतीश कुमार ने शुक्रवार तक 41 विधानसभा क्षेत्रों में सभाएं की हैं. साथ ही उन्होंने 47 विधानसभा क्षेत्रों में वर्चुअल माध्यम से लोगों को संबोधित किया है. इसके साथ ही वह शनिवार को पहले चरण की छह, 28 अक्तूबर को दूसरे चरण के 18 और तीन नवंबर को तीसरे चरण के सात विधानसभा क्षेत्रों के लोगों को वर्चुअल माध्यम से संबोधित करेंगे.

वहीं अगर बात करें भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल चुनावी व्यस्तता के कारण अपने सामान्य रूटीन को बरकरार नहीं रख पाते हैं. सुबह छह बजे से उनकी दिनचर्या शुरू होती है. पहले वह सुबह दो से ढाई घंटे योग या कसरत करते थे. लेकिन, इन दिनों वह इस समय को फोन पर खर्च करते हैं. पूरे सूबे के कार्यकर्ताओं और नेताओं या प्रत्याशियों से फीडबैक लेते हैं. साथ ही एक दिन पहले के सभी मिस्ड कॉल का जवाब कॉल बैक करके देते हैं.इसके बाद नाश्ते में पराठा और आलू की भुजिया खाते हैं. आलू उनका फेवरेट है. इसके बाद वह चुनावी प्रचार के लिए निकल पड़ते हैं. लेकिन, अपने साथ दोपहर के भोजन का डिब्बा ले जाना नहीं भूलते हैं. चुनावी दौरे के दौरान ही कभी सड़क पर चलती गाड़ी में, तो कभी हेलिकॉप्टर में या कभी मंच के पीछे दोपहर का भोजन करते हैं. दोपहर के खाने में वह सादी रोटी, सब्जी और सलाद लेते हैं.

दशहरा होने की वजह से अभी वह नॉन वेज नहीं खाते हैं. हालांकि, सामान्य दिनों में वह सप्ताह में दो से तीन दिन नॉन वेज खा ही लेते  हैं. चंपारण का कबाब और सरैया मन की मछली उनका पसंदीदा भोजन है. सरैया मन की मछली की खासियत बताते हुए वह कहते हैं कि मेरे पिता जब भी स्व. अटल बिहारी वाजपेयी से मिलते थे या वह आते थे, तो सरैया मन की मछली का जिक्र जरूर करते थे. अटल जी को भी यह मछली बेहद पसंद थी.चंपारण की यह खासियत है. फिर तीन-चार चुनाव सभाओं को संबोधित करके लौटने पर वह पार्टी कार्यालय पहुंच कर फिर से रिव्यू में जुट जाते हैं. इस दौरान चाय और कुछ हल्का नाश्ता या बिस्कुट लेते हैं. इसके बाद रात के भोजन में रोटी और हरी सब्जी लेते हैं. राजमा, मटर, चना और बिंस भी खासा पसंद है. सामान्य दिनों में वह रात 11 बजे सोते हैं, लेकिन इन दिनों रात 12 या एक बजे सोते हैं. डॉ जायसवाल बताते हैं कि वह रात में कभी भी सोये, लेकिन हर हाल में सुबह छह बजे उठ जाते हैं. रात को खाने के बाद 45 मिनट टहलते हैं, लेकिन इन दिनों में वह भी बंद है.

तेजस्वी सुबह पूजा के बाद मां राबड़ी के हाथों का बना नाश्ता करते हैं

राजद नेता तेजस्वी यादव की दिनचर्या सुबह साढ़े छह बजे से शुरू होती है. नियमित टहलने और कसरत के बाद वह अखबारों पर नजर डालते हैं. अपने मंदिर में पूजा के बाद मां राबड़ी देवी के हाथों का बना नाश्ता, जिसमें पराठा और अचार होता है,वो  लेते हैं. फल, चॉकलेट और घर का बना हल्का खाना भी साथ होता है. शाम पांच बजे लौटने के बाद थोड़ी देर आराम और योगा करते हैं. अपने क्षेत्र राघोपुर से आये लोगों से रात आठ बजे से मुलाकात का वक्त होता है.इसके बाद जिन इलाके में सभा होती है, वहां का फीडबैक लेते हैं. रात में सोने से पहले आइटी टीम से विचार विमर्श करते हैं. तेजस्वी ने अब तक 63 विस क्षेत्रों में 70 से अधिक सभाएं की हैं. राजद उम्मीदवारों के 42 विस क्षेत्रों में वह सभा कर चुके हैं. उनकी दिनचर्या पर माता राबड़ी देवी पूरी तरह नजर रखती हैं. सुबह का नाश्ता खिलाने से लेकर गाड़ी तक छोड़ने में मां राबड़ी देवी साथ रहती हैं. तेजस्वी के लिए घर में खास पूजा हो रही है.

Find Us on Facebook

Trending News