एनडीए विधायकों के संग सीएम नीतीश की डिनर डिप्लोमेसी, सदन में उपस्थिति और विपक्ष के आरोपों को जवाब देने का पढ़ाया पाठ

एनडीए विधायकों के संग सीएम नीतीश की डिनर डिप्लोमेसी, सदन में उपस्थिति और विपक्ष के आरोपों को जवाब देने का पढ़ाया पाठ

पटना। विधान मंडल में बजट सत्र को लेकर सीएम नीतीश कुमार किसी प्रकार की लापरवाही बरतना नहीं चाहते हैं, यही कारण है कि सोमवार को बजट पेश होने के बाद उन्होंने एनडीए के सभी विधायकों के लिए अपने आवास पर डिनर का आयोजन किया। इस दौरान उन्होंने गठबंधन के सभी विधायकों के संग बैठक भी की, जिसमें उन्होंने एनडीए के सभी विधायकों व विधान पार्षदों को पूरे बजट सत्र में रोजाना मुस्तैदी के साथ बैठकों में शामिल होने का निर्देश दिया। बैठक में विपक्ष के हर सवाल पर तार्किक जवाब देने की रणनीति पर विस्तार से बातचीत हुई। इस बैठक में राज्य सरकार के सभी मंत्रियों के साथ ही भाजपा, जदयू, हम और वीआईपी के सभी विधायक व विधान पार्षदों ने हिस्सा लिया। बैठक करीब दो घंटे चली।

नए विधायकों को दिया राजनीति का ज्ञान

नए विधायक के साथ साथ पहली बार बने मंत्रियों से नीतीश कुमार ने साफ-साफ कहा कि सदन में विपक्ष के हर मुद्दे पर मुखर रहना है। शालीनता के साथ तार्किक ढंग से हर सवाल का जवाब देना है। सदन की कार्रवाई जब तक चलेगी तब तक कोई भी माननीय सदन से बाहर नही जाएं। अनिवार्य रूप से सत्र में मौजूद रहिए। नए लोगों के लिए तो यह और भी जरूरी है। आप ध्यान देकर कार्यवाही देखेंगे तो 90 फीसदी चीजें यहीं सीख जायेंगे, क्योंकि आपको सारा व्यावहारिक ज्ञान होगा।

विपक्ष के आरोपों से घबराएं नहीं
विपक्ष के नेता पर कटाक्ष करते हुए सीएम नीतीश ने कहा कि कुछ आता-जाता है नहीं और कुछ से कुछ बोलता है। आप तार्किक होकर प्रतिपक्ष के सभी सवालों का जवाब दीजिए। सवाल पूछने का हक सभी हो है। आप भी सवाल पूछिए। इसमें हिचकिचाने की कोई जरूरत नहीं है। मुख्यमंत्री ने इस बैठक के दौरान कुल 21 विधायकों से उनके सुझाव भी सुने। क्षेत्र से लेकर कामकाज तक की असुविधाओं की ओर भी कई विधायक ने मुख्यमंत्री का ध्यान दिलाया। 

मांझी ने उठाया अफसरों द्वारा बात नहीं सुनने का मुद्दा

पूर्व मुख्यमंत्री और हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने समस्या रखी कि अफसर विधायकों से बढ़िया व्यवहार नहीं करते। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसे गंभीरता से लिया। कहा कि बजट सत्र 24 मार्च तक चलेगा। उसके बाद विधायकों को बुलाकर अधिकारियों संग बैठक करायी जाएगी ताकि आपलोगों को कोई दिक्कत न हो। बैठक को संबोधित करते हुए उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी ने भी एनडीए के सभी विधानमंडल दल के सदस्यों को बजट सत्र में नियमित अटेंडेंस रखने का आग्रह किया। 

Find Us on Facebook

Trending News