जनता दरबार को फिर से शुरू करने का सीएम ने पूरा किया वादा, पांच साल पहले इस वजह से हुआ था बंद

जनता दरबार को फिर से शुरू करने का सीएम ने पूरा किया वादा, पांच साल पहले इस वजह से हुआ था बंद

PATNA : बिहार में आज से सीएम नीतीश कुमार साप्ताहिक जनता दरबार की शुरुआत कर रहे हैं। जिसको लेकर जदयू में भी उत्साह नजर आ रहा है। पार्टी की तरफ से बताया जा रहा है कि आखिर क्यों सीएम को जनता दरबार शुरू करने में पांच साल का समय लग गया। जदयू प्रवक्ता अभिषेक झा ने बताया कि निश्चित रूप से जनता दरबार सीएम नीतीश के पहले कार्यकाल के लिए बड़ा कदम था। जो अब फिर से शुरू किया जा रहा है।

अभिषेक झा ने पूर्व में जनता दरबार के बंद होने का कारण 2015 में लोक सेवा अधिकार कानून को बताया। उन्होंने कहा कि इस कानून के लागू होने के बाद यह महसूस किया गया कि अब लोगों को जनता दरबार की आवश्यकता नहीं होगी। लेकिन बाद में लोगों ने कहा कि फिर से इसे शुरू किया जाना चाहिए। खुद सीएम ने चुनाव के दौरान कहा था कि वह फिर से जनता दरबार लगाएंगे।

कोरोना के कारण हुई देरी

 अभिषेक झा ने कहा इसे पहले ही शुरू दिया जाता लेकिन कोरोना के कारण इसे कुछ समय के लिए टाल दिया गया, अब इसे फिर से शुरू किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जनता दरबार फिर से शुरू होने के बाद लोगों में उत्साह है और वह सीधे सीएम से अपनी परेशानी बता सकते हैं।


Find Us on Facebook

Trending News