बिहार चुनाव में घर-घर पहुंचेंगे नीतीश कुमार के विचार, जेडीयू की तरफ से की जा रही तैयारी

बिहार चुनाव में घर-घर पहुंचेंगे नीतीश कुमार के विचार, जेडीयू की तरफ से की जा रही तैयारी

पटनाः बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पूरे बिहार के हर घरों तक पहुंचाने की कोशिश हो रही है।जेडीयू की तरफ से इसकी तैयारी की जा रही है। पार्टी इस चुनाव में हर घऱ में नीतीश कुमार की तरफ से लिखे गए पत्र को घर-घर भेजने पर काम कर रही है।नीतीश कुमार के पत्र को लाखो प्रति छपवाने की प्रक्रिया भी जारी है। नीतीश कुमार के उस पत्र को लिफाफे में बंद कर हर घर में पार्टी के कार्यकर्ता पहुंचायेंगे। पार्टी के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी ने बताया कि बूथ लेवल के हमारे कार्यकर्ता इस मिशन को पूरा करेंगे।

नीतीश ने बिहार की जनता के नाम लिखा है खुला खत

नीतीश कुमार ने राज्य की जनता के नाम एक पत्र लिखा है। बुधवार को जनता दल यूनाइटेड (जदयू) अध्यक्ष के हैसियत से लिखे गए इस पत्र में नीतीश कुमार ने अपने कार्यकाल के दौरान की उपलब्धियों का जिक्र किया है। साथ ही उन्होंने यह भी बताया है कि अगर इस विधानसभा चुनाव के बाद जनता उन्हें मौका देती है तो वे क्या करेंगे। सीएम नीतीश ने इस पत्र में लिखा है कि अब बिहारी कहलाना अपमान नहीं बल्कि गर्व का विषय है। हमने जो किया वह सब आपके सामने है। लोगों की सेवा करना ही हमारा धर्म है।

नीतीश कुमार ने बिहार की जनता को संबोधित करते हुए लिखा है मुझे विश्वास है कि आपके सहयोग और आशीर्वाद से आने वाले दिनों में हम राज्य को विकास की और ऊंचाइयों तक पहुंचाते हुए सक्षम एवं स्वावलंबी बिहार बनाएंगे। यदि हमें अगली बार सेवा का मौका मिलता है तो हम सात निश्चय के द्वितीय चरण को लागू करेंगे। इन निश्चयों में युवा शक्ति को हुनरमंद बनाने, महिलाओं को सक्षम बनाने, महत्वपूर्ण स्थानों तक सुलभ संपर्कता पहुंचाने के साथ-साथ मनुष्य एवं पशुओं के लिए बेहतर स्वसाथ्य सुविधाएं देने का संकल्प है।

मुख्यमंत्री ने बुधवार को बिहारवासियों को प्रिय बहनों, भाइयों, सम्मानित बुजुर्गों संबोधित करते हुए कहा है कि आपसभी ने वर्ष 2005 से मुझे बिहार की सेवा करने का मौका दिया। हमलोगों ने समाज में अमन-चैन और भाईचारे का वातावरण बनाया, डर का माहौल खत्म हुआ और सभी क्षेत्रों में विकास का मार्ग प्रशस्त हुआ। हमने शिक्षा-स्वास्थ्य के क्षेत्र पर विशेष ध्यान दिया है। छात्र-छात्राओं को साईकिल, पोशाक, छात्रवृत्ति दी गई। अस्पतालों में ईलाज की बेहतर व्यवस्था की गई। हजारों सड़कों और पुलों का निर्माण किया गया, जिससे छह घंटे में राज्य के सबसे दूरस्थ इलाकों से भी पटना पहुंचना संभव हो सका। विकसित बिहार के सात निश्चयों के तहत हर घर में बिजली पहुंचा दिया। हर घर में शौचालय का काम, हर टोले तक संपर्कता का काम लगभग पूर्ण है। 83 प्रतिशत घरों में पीने का पानी और अधिकांश घरों तक पक्की गली-नालियां बन गई हैं। लक्ष्य लगभग पूरा हुआ है, बचे हुए कार्य भी शीघ्र पूर्ण होंगे।

Find Us on Facebook

Trending News