'समाधान यात्रा' के दौरान गृह जिले नालंदा पहुंचे सीएम नीतीश, विकास योजनाओं का लिया जायजा, अधिकारियों को दिए कई निर्देश

'समाधान यात्रा' के दौरान गृह जिले नालंदा पहुंचे सीएम नीतीश, विकास योजनाओं का लिया जायजा, अधिकारियों को दिए कई निर्देश

PATNA : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज 'समाधान यात्रा' के क्रम में नालंदा जिले का भ्रमण कर विभिन्न विभागों के अंतर्गत चल रही विकास योजनाओं का निरीक्षण किया। यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री ने नालंदा जिलान्तर्गत प्रखंड रहुई के सुपासंग पंचायत स्थित उफरौल ग्राम का भ्रमण कर मुख्यमंत्री ग्रामीण आवास योजना क्लस्टर, धूसर जल प्रबंधन इकाई, हर घर पक्की गली नाली निर्माण सहित अन्य विकास कार्यों का जायजा लिया। लाभार्थियों के बीच मुख्यमंत्री ने सतत् जीविकोपार्जन योजना का किट वितरित किया। सतत् जीविकोपार्जन योजना द्वारा संपोषित जीविका दीदियों द्वारा संचालित किए जा रहे श्रृंगार, अंडा एवं किराना दुकान का मुख्यमंत्री ने मुआयना किया एवं जीविका दीदियों से बातचीत की। सतत् जीविकोपार्जन ने योजना लाभार्थी इंद्री देवी के निजी जमीन पर निर्मित बकरी शेड का मुख्यमंत्री ने निरीक्षण किया। भ्रमण के क्रम में बातचीत के दौरान बिहार महादलित विकास मिशन के तहत संचालित सरस्वती किशोरी समूह की बालिकाओं ने मुख्यमंत्री द्वारा लागू की गयी शराबबंदी की प्रशंसा की एवं दहेज प्रथा तथा बाल विवाह के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान का समर्थन किया। सुपासंग पंचायत एवं आसपास के इलाकों को बाढ़ से सुरक्षित रखने के लिए बनाए गए बांध का भी मुख्यमंत्री ने निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान अधिकारियों को निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि बांध को मजबूत बनाए रखें। इसके दोनों तरफ के पईन को और गहरा करें। ताकि जल संग्रहित रहे और उसका उपयोग हो सके। बांध के दोनों तरफ पौधारोपण कराएं। वर्षापात के समय लोगों को आवागमन में असुविधा न हो इसके लिए इस बांध पर रास्ता बना दिया जाएगा।

जल - जीवन - हरियाली अभियान के तहत पंचायत सुपासंग सरकार भवन के समीप जीर्णोद्धार किये गए तालाब का मुख्यमंत्री ने मुआयना कर तालाब के निचले हिस्से में पौधारोपण का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि तालाब को और गहरा कराएं ताकि अधिक से अधिक पानी संग्रहित रहे मुख्यमंत्री ने जिले में किये गए मुख्य कार्यों से संबंधित लगाई गई प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। मुख्यमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को मुख्यमंत्री ने चाबी प्रदान किया। साथ ही मुख्यमंत्री निःशक्त जन विवाह प्रोत्साहन अनुदान योजना, मुख्यमंत्री अंतर्जातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के लाभार्थियों को सांकेतिक चेक प्रदान किया गया। बिहार महादलित विकास योजना रैयती भूमि की क्रय नीति के तहत लाभुकों को बंदोबस्त भूमि पर कॉलोनी निर्माण की चाबी प्रदान की गयी। जीविका दीदियों द्वारा लगायी गयी उत्पादों की प्रदर्शनी का मुख्यमंत्री ने मुआयना किया। मुख्यमंत्री ने नालंदा के छात्रावासों में नियोजन कैंप के माध्यम से युवाओं को दी गयी नौकरी से संबंधित नियुक्ति पत्र प्रदान किया। मुख्यमंत्री ने ग्राम मिर्जापुर में भी विकासात्मक कार्यों का निरीक्षण किया एवं लोगों की समस्याएं सुनीं। निरीक्षण के क्रम में मुख्यमंत्री ने हर घर बिजली, हर घर पक्की गली-नाली, हर घर नल का जल योजना समेत अन्य योजनाओं के संबंध में जमीनी प्रगति देखी।

मुख्यमंत्री ने बिहारशरीफ नगर निगम क्षेत्र अंतर्गत मोगलकुआं से रहुई की तरफ जाने वाले पथ का शिलापट्ट अनावरण कर उद्घाटन किया। उद्घाटन के पश्चात् मुख्यमंत्री ने पथ का निरीक्षण किया। बिहार नगर निगम परिसर में बिहारशरीफ स्मार्ट सिटी के अंतर्गत इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का शिलापट्ट का अनावरण कर मुख्यमंत्री ने उद्घाटन किया। उद्घाटन के पश्चात् इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर के कंट्रोल रूम से नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव श्री आनंद किशोर ने लाइव प्रसारण के जरिए मुख्यमंत्री को इसकी उपयोगिता के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। श्री आनंद किशोर ने बताया कि यह बिहार का पहला इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर है जिसने काम करना शुरू कर दिया है। इसके अलावा मुजफ्फरपुर, भागलपुर एवं पटना में भी इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर की स्थापना की जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहारशरीफ के बाहरी हिस्से में सड़कों के चौड़ीकरण के साथ ही फोरलेन, आर०ओ०बी० आदि का निर्माण किया जा रहा है। लेकिन इसके अंदरूनी हिस्सों में संकीर्ण रास्तों के चौड़ीकरण का काम भी तेजी से कराएं। हर घर पक्की गली व नाली आदि का निर्माण भी कराएं। सभी वार्ड में सड़क ठीक रहे, इसका विशेष रूप से ख्याल रखें। विकास कार्य जो कराए गए हैं, उसे मेंटेन रखें। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले इस जगह का नाम बिहार था, हमने इसका नाम बिहारशरीफ कराया। क्योंकि इस राज्य का नाम भी बिहार है। एम०एल०ए०, एम०पी० रहते हुए भी हम इस इलाके में घूमते रहे हैं। उद्घाटन के पश्चात् मुख्यमंत्री ने इंटीग्रेटेड कमांड एवं कंट्रोल सेंटर भवन का निरीक्षण किया।

बिहारशरीफ में पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछली बार भी यहां आकर हमने एक-एक चीज का निरीक्षण किया था। इस इलाके से मेरा पुराना लगाव रहा है। पटना जिला और नालंदा जिले से हम एम०एल०ए० और एम०पी० रहे हैं। अपने इलाके में हम एक-एक क्षेत्र में जाकर घूमे हैं। बिहारशरीफ को हमने हमेशा देखा है। बिहारशरीफ को लेकर हमने जो पहले कहा था उसमें से बहुत कुछ बनकर तैयार हो गया है। पिछली बार जब हम यहां आये थे तो हमने कहा था कि बिहारशरीफ के अंदर की सड़कों को भी ठीक करना है। बिहारशरीफ के अंदर की कुछ सड़कों को ठीक भी कराया गया है। हमने आज फिर कह दिया है एक भी सड़क को नहीं छोड़ना है, सभी को ठीक करा देना है। बिहार की आधी आबादी में आयी जागरुकता के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हम जहां भी जा रहे हैं महिलाएं अपनी बात हमें बता रही हैं। जब तक हम लोगों की बातों को नहीं सुनेंगे तो जानेंगे कैसे? हम तो सभी इलाकों में घूमते रहे हैं और लोगों की बातों को सुनते रहे हैं। जब हम एम०एल०ए० एम०पी० थे तब भी घूम-घूमकर लोगों से मिलकर उनकी बातों को सुनते थे। जब हम एम0एल0ए0 थे तो वर्ष 1985 से एक-एक क्षेत्र में घूमते थे। बाद में हम वर्ष 1989 में एम0पी0 बन गये। वर्ष 2004 में हम नालंदा से भी एम0पी0 बने। हम लगातार इन क्षेत्रों में घूमते रहे हैं और एक-एक कार्य को देखते रहे हैं। बिहारशरीफ काफी महत्वपूर्ण शहर है। पहले इसका नाम बिहार था, जबकि अपने राज्य का भी नाम बिहार है। हमने कहा था कि इसको बिहारशरीफ कहा जाय।

इस अवसर पर वित्त, वाणिज्य कर एवं संसदीय कार्य मंत्री सह नालंदा जिले के प्रभारी मंत्री विजय कुमार चौधरी, जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा, अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मो0 जमा खान, ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार, सांसद कौशलेंद्र कुमार, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त परामर्शी मनीष कुमार वर्मा, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ० एस० सिद्धार्थ, अपर मुख्य सचिव लघु जल संसाधन रवि मनुभाई परमार, नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव आनंद किशोर, जल संसाधन विभाग के सचिव संजय अग्रवाल, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार, सचिव अनुसूचित जाति / जनजाति कल्याण देवेश सेहरा, जीविका के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी सह मिशन निदेशक जल- जीवन - हरियाली अभियान राहुल कुमार, आयुक्त पटना प्रमंडल कुमार रवि, पुलिस महानिरीक्षक पटना प्रक्षेत्र राकेश राठी, जिलाधिकारी नालंदा शशांक शुभंकर, पुलिस अधीक्षक नालंदा अशोक मिश्रा, नगर आयुक्त बिहारशरीफ तरनजोत सिंह सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं वरीय अधिकारीगण उपस्थित थे।

Find Us on Facebook

Trending News