सीएम नीतीश का सौर ऊर्जा के प्रति जागरूकता और रेन वाटर हार्वेस्टिंग को बढ़ावा देने का निर्देश, जल-जीवन-हरियाली का जाना हाल

सीएम नीतीश का सौर ऊर्जा के प्रति जागरूकता और रेन वाटर हार्वेस्टिंग को बढ़ावा देने का निर्देश, जल-जीवन-हरियाली का जाना हाल

पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में शनिवार को जल- जीवन - हरियाली अभियान से संबंधित उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक की गयी । समीक्षा बैठक में जल-जीवन- हरियाली अभियान के मिशन निदेशक राहुल कुमार ने प्रस्तुतीकरण के माध्यम से मुख्यमंत्री के समक्ष जल-जीवन-हरियाली अभियान के अंतर्गत 11 अवयवों पर किये जा रहे कार्यों की अद्यतन स्थिति की जानकारी दी। 

मुख्यमंत्री ने समीक्षा बैठक के दौरान कहा कि वर्ष 2019 में पर्यावरण संरक्षण को लेकर सभी दलों के विधान पार्षदों एवं विधायकों के साथ करीब 8 घंटे तक बैठक की गई थी जिसमें सर्वसम्मति से जल-जीवन-हरियाली अभियान को चलाने का निर्णय लिया गया था। इसके लिए मानव श्रृंखला भी बनाई गई जिसमे 5 करोड़ से भी अधिक लोगों ने अपनी भागीदारी सुनिश्चित कराई थी। वर्ष 2019 में एक-एक चीज पर विस्तारपूर्वक बात हुई थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि जल-जीवन-हरियाली का मतलब जल और हरियाली के बीच ही जीवन है। 

वर्ष 2020 में संयुक्त राष्ट्र के उच्च स्तरीय राउंड टेबल कॉन्फ्रेंस में बिहार सरकार द्वारा चलाये जा रहे जल- जीवन - हरियाली अभियान की काफी सराहना हुयी थी। मुझे भी संयुक्त राष्ट्र से निमंत्रण आया था जिसमें हमने यहीं से अपनी बातें रखी थीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजगीर में जल संचयन हेतु बड़ा और सुंदर तालाब का निर्माण कराया गया है। यदि दो साल वर्षा नहीं होगी तो भी पानी की दिक्कत नहीं होगी। उन्होंने कहा कि पहाड़ियों के तलहट्टी क्षेत्र में जल संचयन की संभावनाओं को भी तलाशें पहाड़ियों के निकट चेकडैम बनाइएगा तो बहुत अच्छा होगा। इससे जल की उपलब्धता सुनिश्चित होगी।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश देते हुये कहा कि सौर ऊर्जा के प्रति लोगों को जागरूक करें क्योकि यही अक्षय ऊर्जा है जो प्रकृति प्रदत्त है और यह सदैव रहेगा। हमलोगों ने शुरू से ही इस पर बल दिया है। मुख्यमंत्री आवास में भी सौर ऊर्जा को लेकर काम कराया गया है। जितने भी सरकारी भवन हैं उन सभी पर सौर ऊर्जा से संबंधित उपकरण लगाने का कार्य सुनिश्चित करें। उसे मेंटेन रखने का भी प्रबंध करें। इससे काफी लाभ होगा। इससे पर्यावरण भी स्वच्छ रहेगा और पैसों की भी बचत होगी। जो बिजली मिल रही है उसके उपयोग की एक सीमा है। उन्होंने कहा कि पहले बिहार का हरित आवरण काफी कम था। वर्ष 2012 में हरियाली मिशन की स्थापना कर काफी संख्या में पौधे लगाये गये जिसका परिणाम है कि अब राज्य का हरित आवरण 15 प्रतिशत से अधिक हो चुका है। हमलोगों ने बिहार की आबादी और क्षेत्रफल को ध्यान में रखते हुए हरित आवरण की सीमा को 17 प्रतिशत तक करने का लक्ष्य रखा है और इसके लिए बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण का कार्य किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गंगा जलापूर्ति योजना' का कार्य यथाशीघ्र पूर्ण करें, इस काम में तेजी लायें ताकि नवादा, राजगीर गया और बोधगया में जलापूर्ति का काम जल्द से जल्द शुरू किया जा सके। इससे लोगों को काफी सुविधा होगी। गया के विष्णु पद मंदिर के निकट फल्गु नदी में बन रहे रबड़ डैम का काम भी तेजी से पूर्ण कराएं। इसके बन जाने से पितृपक्ष के दौरान आनेवाले लोगों को काफी सहूलियत होगी। उन्होंने कहा कि सभी सरकारी भवनों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग का कार्य सुनिश्चित कर उसे पूर्ण कराएं। वज्रपात के कारण लोगों की मृत्यु की सूचना मिलने पर मुझे काफी दुःख होता है। इसको ध्यान में रखते हुए सभी सरकारी भवनों पर तड़ित चालक लगाने हेतु संबद्ध विभाग आपस में विमर्श कर कार्य योजना बनाएं। 

उन्होंने कहा कि जल-जीवन-हरियाली अभियान के बारे में लोगों के बीच प्रचार-प्रसार निरंतर कराते रहें। अधिकांश लोग अब सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हैं इसलिए सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचार-प्रसार का काम जरुर कराएं। सोशल मीडिया के माध्यम से दिये गये संदेश अधिक लोगों तक पहुंचेंगे। इस अभियान के उद्देश्य और इसके फायदों के बारे में लोगों को बताएं। निरंतर इस बात का आकलन और समीक्षा करें कि जल-जीवन-हरियाली अभियान के अंतर्गत किए जा रहे कार्य तेजी से पूर्ण हो रहे हैं या नहीं फसल अवशेष को लेकर किसानों को जागरुक करें, उन्हें बताएं कि फसल अवशेष जलाने के क्या-क्या दुष्परिणाम होते हैं। बिहार में पहले फसल अवशेष न के बराबर लोग अपने खेतों में जलाया करते थे। अब पटना और नालंदा के अलावा उत्तरी बिहार के लोग भी फसल अवशेष को अपने खेतों में जलाने लगे हैं, यह पर्यावरण के लिए काफी घातक है। 


Find Us on Facebook

Trending News