CM साहब ....मत कहिए कि बिहार में सुशासन है, आपके विधायक ही कह रहे 2005-10 तक सुशासन था पर अब नहीं

CM साहब ....मत कहिए कि बिहार में सुशासन है, आपके विधायक ही कह रहे 2005-10 तक सुशासन था पर अब नहीं

PATNA: बिहार में अब कहने को सुशासन है। सीएम नीतीश चाहे जितनी भी बड़ी बड़ी बातें कर लें लेकिन हकीकत यही है कि पुलिसिया सिस्टम से कोई भी खुश नहीं है। विपक्षी नेताओं की बात छोड़िए सत्ताधारी बीजेपी-जेडीयू के विधायक ही सबसे अधिक परेशान हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को इस बात से चिढ़ है कि 2005-10 का काल सर्वोत्तम था। सीएम नीतीश कई बार इस पर आपत्ति जता चुके हैं और कह चुके हैं कि 2005-10 तक के कार्यकाल में बेहतर काम तो हुए हीं उससे ज्यादा और बेहतर काम अब हो रहे हैं। मुख्यमंत्री भले ही इस बात से नाराज हों लेकिन सच्चाई तो सच्चाई होती है। अब तो सीएम नीतीश की पोल उनके विधायक ही खोल रहे हैं। बिहार की सत्ताधारी जेडीयू के विधायक ने साफ कहा है कि नीतीश कुमार के पहले शासनकाल वाली बात अब नहीं है। 2005 से लेकर 2010 का काल वाकई में सुशासन का काल था लेकिन अब वो बात नहीं। आज अराजक स्थिति है। अफशरशाही और भ्रष्टाचार चरम पर है और पुलिस लॉ एंड ऑर्डर दुरूस्त करने की बजाए सिर्फ वसूली में लगी रहती है। 

जेडीयू विधायक ने सुशासन की खोली पोल

जेडीयू के दबंग विधायक गोपाल मंडल ने आज एक बार फिर से सीएम नीतीश के सुशासन पर बड़े सवाल खड़े किये हैं। उन्होंने कहा कि आज की पुलिस में कोई दम नहीं है। जेडीयू विधायक ने कहा कि जब हम सही बात कहते हैं तो तकलीफ होती है। लेकिन हकीकत यही है कि पुलिस सिर्फ वसूली करने में लगी रहती है।जेडीयू विधायक गोपाल मंडल ने आगे कहा कि पुलिस का मनोबल इस कदर बढ़ा हुआ है कि विधायकों पर भी रौब झाड़ रहे।

गोपाल मंडल को चैलेंज करे यह बर्दाश्त नहीं

उन्होंने कहा कि जब हमने क्राइम पर नवगछिया थानेदार को फोन किया तो वह मौके पर तो नहीं ही पहुंचा उल्टे हम ही को हड़का रहा और कह रहा कि बोलिये आपको फोन टेप हो रहा। बताइए .... एक दारोगा सत्ताधारी दल के विधायक गोपाल मंडल को चैलेंज करे यह बर्दाश्त नहीं।लेकिन क्या करें मजबूर हैं वरना.....। जेडीयू विधायक गोपाल मंडल ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और डीजीपी संज्ञान लें और वैसे लापरवाह पुलिस वालों पर सख्त एक्शन लें। अगर ऐसा नहीं करेंगे तो पुलिस का मनोबल और बढ़ जायेगा।



Find Us on Facebook

Trending News