बिहार उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश उत्तराखंड झारखंड छत्तीसगढ़ राजस्थान पंजाब हरियाणा हिमाचल प्रदेश दिल्ली पश्चिम बंगाल

BREAKING NEWS

  • लोकसभा चुनाव को लेकर जमुई पुलिस की बड़ी कार्रवाई, अपराधी को पकड़ने के दौरान पांच लोगो को हथियार समेत किया गिरफ्तार
  • लोकसभा चुनाव को लेकर जमुई पुलिस की बड़ी कार्रवाई, अपराधी को पकड़ने के दौरान पांच लोगो को हथियार

  • पटना में मंदिर निर्माण के लिए खुदाई के दौरान मिली सैकड़ों वर्ष पुरानी मूर्ति, लोगों ने शुरू की पूजा अर्चना
  • पटना में मंदिर निर्माण के लिए खुदाई के दौरान मिली सैकड़ों वर्ष पुरानी मूर्ति, लोगों ने शुरू की

  • बांका में पुलिस टीम पर हमला करना पड़ा महंगा, पुलिस ने चार आरोपियों को हथियार के साथ किया गिरफ्तार
  • बांका में पुलिस टीम पर हमला करना पड़ा महंगा, पुलिस ने चार आरोपियों को हथियार के साथ किया

  • सीपीआई ने वायनाड से की अपने कैंडिडेट की घोषणा, कहीं अमेठी के साथ वायनाड से न भी कट जाए राहुल गांधी का पत्ता
  • सीपीआई ने वायनाड से की अपने कैंडिडेट की घोषणा, कहीं अमेठी के साथ वायनाड से न भी कट

  • जन विश्वास यात्रा को लेकर अररिया में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने किया रोड शो, देखने के लिए उमड़ा जनसैलाब
  • जन विश्वास यात्रा को लेकर अररिया में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने किया रोड शो, देखने के लिए

  • कहीं अमेठी के साथ वायनाड सीट से भी चुनाव लड़ने के चूक न जाएं राहुल गांधी, सहयोगी पार्टी ने की अपने कैंडिडेट की घोषणा
  • कहीं अमेठी के साथ वायनाड सीट से भी चुनाव लड़ने के चूक न जाएं राहुल गांधी, सहयोगी पार्टी

  • श्रद्धांजलि के बहाने सियासत ! पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने पंकज उधास के निधन पर जताया शोक, कहा “बड़ी महँगी हुई शराब,थोड़ी-थोड़ी पिया करो” जैसे नज्म से बिखेरा आवाज का जादू
  • श्रद्धांजलि के बहाने सियासत ! पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने पंकज उधास के निधन पर जताया शोक, कहा

  • पटना में कांग्रेस नेता के बेटे ने अपने फ्लैट में लगाई फांसी, इस वजह से चल रहा था परेशान
  • पटना में कांग्रेस नेता के बेटे ने अपने फ्लैट में लगाई फांसी, इस वजह से चल रहा था

  • गजल सम्राट पंकज उधास के निधन पर मुख्यमंत्री ने जताया शोक, बताया भारतीय संगीत एवं फिल्म जगत को अपूरणीय क्षति
  • गजल सम्राट पंकज उधास के निधन पर मुख्यमंत्री ने जताया शोक, बताया भारतीय संगीत एवं फिल्म जगत को

  • गया में पोस्टर चिपका कर नक्सली ने की लेवी देने की मांग, 15 घंटे के भीतर पुलिस ने किया गिरफ्तार
  • गया में पोस्टर चिपका कर नक्सली ने की लेवी देने की मांग, 15 घंटे के भीतर पुलिस ने

कांग्रेस हुई भूमिहारों पर मेहरबान, जिला अध्यक्षों में सवर्णों की भरमार, लोकसभा चुनाव के पहले बिहार में सबसे बड़ा दांव

कांग्रेस हुई भूमिहारों पर मेहरबान, जिला अध्यक्षों में सवर्णों की भरमार, लोकसभा चुनाव के पहले बिहार में सबसे बड़ा दांव

पटना. बिहार की राजनीति में जाति की बातें ना हो यह संभव ही नहीं. बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी ने अपने 39 संगठनात्मक जिलों के अध्यक्षों के नाम घोषित किए हैं. कांग्रेस ने जिला अध्यक्षों की घोषणा में सवर्णों को खूब तरजीह दी है. करीब 2 दर्जन से ज्यादा जिला अध्यक्ष सवर्ण समुदाय हैं. संयोग से बिहार कांग्रेस अध्यक्ष डॉ अखिलेश सिंह भी भूमिहार जाति से हैं और अब उन्होंने जिला अध्यक्षों की नियुक्ति में भी सवर्णों पर जमकर दांव खेला है. 

कांग्रेस ने जिन 39 जिला अध्यक्षों के नाम की घोषणा की है उसमें 11 जिलों में भूमिहार और 8 में ब्राह्मणों को जिलाध्यक्ष बनाया गया है. इसके अलावा राजपूत समाज से 6 हैं. यह सभी सवर्ण समुदाय से आते हैं. वहीं कांग्रेस ने पांच मुस्लिम को जिलाध्यक्ष बनाया है. साथ ही 4 यादव और 3 दलित चेहरे को शामिल किया गया है. कायस्थ और कुशवाहा समाज से एक-एक जिलाध्यक्ष बने हैं. कांग्रेस ने 39 में से सिर्फ दो महिलाओं को जिलाध्यक्ष बनाया है. 

पार्टी ने पटना महानगर से शशि रंजन को जिलाध्यक्ष बनाया गया है. वहीं पटना ग्रामीण-1 से सुमित कुमार सनी और पटना ग्रामीण- 2 से रघुनंदन पासवान को जिलाध्यक्ष नियुक्त किया गया है. पार्टी ने मुंगेर में वहां के विधायक अजय कुमार सिंह को जिला अध्यक्ष बनाया गया है. पहले भी मुंगेर में यही कार्यकारी जिलाध्यक्ष थे. संगठन में कई लोग हैं बावजूद एक ही व्यक्ति विधायक भी और अब अध्यक्ष भी बनाए गए हैं. विधान परिषद में नेता मदन मोहन झा सवर्ण हैं, वे ब्राह्मण जाति से हैं. वहीं विधान सभा में विधायक दल के नेता अजीत शर्मा भी सवर्ण हैं, वे भूमिहार जाति से आते हैं.

ऐसे में कांग्रेस में मौजूदा समय में भूमिहारों का सर्वाधिक दबदबा देखा जा सकता है. पार्टी की भूमिहार सहित सवर्णों पर इस मेहरबानी के पीछे एक बड़ी वजह सवर्ण वोटों को अपने पाले में करने की रणनीति हो सकती है. मौजूदा समय में भाजपा के पक्ष में बड़े स्तर पर सवर्ण वोटों का झुकाव है. लेकिन बड़े स्तर पर सवर्ण समुदाय के लोग आज भी एक बेहतर राजनीतिक विकल्प तलाश रहे हैं. माना जा रहा है कि कांग्रेस इसी विकल्प का पर्याय बनने के लिए सवर्णों पर डोरे डाल रही है. साथ ही 5 मुस्लिम जिला अध्यक्षों को बनाकर पार्टी ने अल्पसंख्यक वोटों में पकड़ बनाने की कोशिश की है. 

दरअसल, बिहार में लालू यादव की पार्टी राजद मुख्य रूप से यादव और मुस्लिम समुदाय के सहारे अपनी राजनीति चमकाते रही है. लालू का यही एम-वाई समीकरण उन्हें पिछले 33 वर्षों से बिहार की राजनीति में सफल बनाए हुए है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जदयू को लव-कुश यानी कुर्मी और कुशवाहा की पार्टी के तौर पर देखा जाता है. साथ ही मुसलमानों को भी नीतीश साधते रहे हैं. बिहार में सक्रिय अन्य दलों में चिराग पासवान की पार्टी लोजपा (रामविलास) मुख्य रूप से पासवान वोटों को अपना आधार बनाकर राजनीति करती है. वहीं पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम माझी की पार्टी हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा खुद को दलितों की पार्टी के तौर पर पेश करती है लेकिन मुख्य रूप से मुसहर समुदाय में पैठ रखती है. 

ऐसे में कांग्रेस बिहार में लोकसभा चुनाव 2024 के पहले अपनी जड़ों को मजबूत करने के लिए सबसे बड़े दांव कर रूप में सवर्णों को साधने की कोशिश में दिखती है. पार्टी ने 39 जिलों में से दो दर्जन से अधिक पर सवर्णों को और 5 पर मुसलमानों को अध्यक्ष बनाकर साफ कर दिया है कि पार्टी बड़ी रणनीति के तहत लोकसभा चुनाव की तैयारी में है. 

कांग्रेस के नए जिलाध्यक्षों के नाम की सूची - 

1. पश्चिमी चंपारण - भरत भूषण दुबे

2. पूर्वी चंपारण - शशि भूषण राय

3. मुजफ्फरपुर - अरविंद मुकुल

4. सीतामढ़ी - कमलेश कुमार सिंह

5. गोपालगंज - ओमप्रकाश गर्ग

6. मधुबनी - मनोज मिश्रा

7. दरभंगा - सीताराम चौधरी

8. समस्तीपुर - अबु तमीम

9. सहरसा - मुकेश झा

10. सुपौल - विमल यादव

11. मधेपुरा - सतेंद्र कुमार यादव

12. अररिया - जाकिर हुसैन

13. पूर्णिया - नीरज सिंह

14. किशनगंज - इमाम अली

15. कटिहार - सुनील यादव

16. भागलपुर - परवेज जमाल

17. बांका - कंचना सिंह

18. मुंगेर - अजय सिंह

19. लखीसराय - अमरीश कुमार अनीस

20. शेखपुरा - सर्यजीत सिंह

21. जमुई - राजेंद्र सिंह

22. बेगूसराय - अभय कुमार सरजंत

23. नालंदा - लवि ज्योति

24. पटना महानगर - शशि रंजन

25. पटना ग्रामीण 1 - सुमीत कुमार सनी

26. पटना ग्रामीण 2 - रघुनंदन पासवान

27. भोजपुर - अशोक राम

28. बक्सर - मनोज कुमार पांडेय

29. रोहतास - कन्हैया सिंह

30. कैमूर - सुनील कुशवाहा

31. गया - गगन कुमार मिश्रा

32. जहानाबाद - गोपाल शर्मा

33. अरवल- धनंजय शर्मा

34. औरंगाबाद - राकेश कुमार सिंह

35. नवादा - सतीश कुमार

36. सारण - अजय कुमार सिंह

37. वैशाली - मनोज शुक्ला

38. सीवान - बिदु भूषण पांडेय

39. शिवहर - नूरी बेगम