जेपी पेंशन योजना पर कांग्रेस पार्टी ने खड़े किये सवाल, कहा यह सरकारी पैसे का दुरूपयोग, अविलम्ब समाप्त करे सरकार

जेपी पेंशन योजना पर कांग्रेस पार्टी ने खड़े किये सवाल, कहा यह सरकारी पैसे का दुरूपयोग, अविलम्ब समाप्त करे सरकार

PATNA : कांग्रेस पार्टी के विधान पार्षद प्रेमचंद मिश्रा ने जेपी सेनानियों के मिलनेवाली पेंशन की राशि मे बढ़ोतरी को घोर अनुचित बताते हुए इसे सरकारी धन का दुरुपयोग कहा और मांग किया कि इस तरह की योजना को अविलम्ब समाप्त करना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह आंदोलन कांग्रेस सरकार के विरुद्ध चलाया गया। यह राजनैतिक महत्वाकांक्षा से प्रेरित आंदोलन था। जिसमें भाग लेने या जेल गए राजीतिक कार्यकर्ताओं को हज़ारों रुपया बतौर पेंशन देना सरेआम सरकारी खजाने का अपने समर्थकों में बांटना एक प्रकार से ना सिर्फ धन का दुरुपयोग बल्कि एक गलत परंपरा जैसा है, जिसे तत्काल वापस लेना चाहिए। उन्होंने पूछा कि 45 साल पहले के आंदोलनकारी को आखिर कब तक सरकारी खजाने से पैसा दिया जाता रहेगा? उन्होंने कहा कि जब गरीबो, विकलांगों, महिलाओं, वृद्धजनों को प्रतिमाह मात्र 400 रुपये मिलने वाली पेंशन को बढ़ाने की मांग की जाती है तो मुख्यमंत्री पैसे की कमी बता कर मना कर देते हैं। लेकिन जेपी सेनानियों के नाम पर अपने समर्थकों को प्रतिमाह 5 हज़ार से बढ़ाकर 7500 रुपये पेंशन के लिए पैसा है अपने आप मे कई सवाल खड़ा करता है।

उन्होंने कहा कि किसी भी राज्य में सत्तारूढ़ दल के समर्थकों को पेंशन देना कहीं से भी उचित नही है। बिहार जैसे गरीब राज्य के खजाने से प्रतिमाह करोड़ों रुपये को 45 साल पहले के राजनीतिक आंदोलन में भाग लेने वालों के बीच मे बांटना एक प्रकार की लूट और बंदरबांट करने जैसा है।

उन्होंने कहा कि इस तरह के पेंशन पर रोक लगनी लगनी चाहिए तथा इस मद में खर्च हो रहे सरकारी धन का उपयोग गरीबों, दलितों, विकलांगो, असहाय वृद्धों महिलाओं को मिलने वाली पेंशन की राशि की बढ़ोतरी में की जानी चाहिए। उन्होंने पूछा कि जेपी आंदोलन के आदर्श और मांगे पूरी हुई क्या तो पेंशन क्यों?

पटना से वंदना शर्मा की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News