पटना एम्स पर फूटा कोरोना बम, 24 घंटों में 607 स्वास्थ्य कर्मी हुए कोरोना पॉजिटिव, 202 डॉक्टर भी संक्रमित

पटना एम्स पर फूटा कोरोना बम, 24 घंटों में  607 स्वास्थ्य कर्मी हुए कोरोना पॉजिटिव, 202 डॉक्टर भी संक्रमित

पटना. बिहार में कोरोना संक्रमण की चपेट में न सिर्फ आम आदमी बल्कि चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े लोग भी आ रहे हैं. खासकर डॉक्टरों और पैरा मेडिकल स्टाफ लगातार कोरोना संक्रमित हो रहे हैं. विशेषकर पटना एम्स से जुड़े डॉक्टरों और चिकित्साकर्मी बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित हुए. पिछले 24 घंटों में ही पटना एम्स में 607 स्वास्थ्य कर्मी के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर आई है. 

सूत्रों के अनुसार पटना  एम्स में  पिछले 9 दिनों में 202 डॉक्टर और 607 स्वास्थ्य कर्मी कोरोना पॉजिटिव हुए हैं. पटना एम्स प्रबंधन के तरफ की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 5 जनवरी से लेकर अब तक 13 फैकेल्टी के 53 सीनियर रेजिडेंट, 101 जूनियर रेजिडेंट, 20 इंटर डॉक्टर, 313 नर्सिंग स्टाफ, 45 टेक्निकल स्टाफ, 24 ऑफिस स्टाफ, 23 अटेंडेंट, 15 हाउसकीपिंग स्टाफ को मिलाकर 607 स्टाफ कोरोना संक्रमित पाये गये है. वहीं सिर्फ गुरूवार को 02 फैकेल्टी, 04 सीनियर रेजिडेंट, 08 जूनियर रेजिडेंट, 01 इंटर्न डॉक्टर, 37 नर्सिंग स्टाफ, 05 टेक्निकल स्टाफ, 05 ऑफिस स्टाफ, 06 अटेंडेंट, 04 हाउसकीपिंग स्टाफ को मिलाकर 607 स्टाफ कोरोना संक्रमित मिले हैं.

अस्पताल में चिकित्साकर्मियों के कोरोना पॉजिटिव होने से ओपीडी पर असर पड़ना शुरू हो गया. एहतियात के तौर पर पटना  एम्स प्रशासन ने पहले ही एक दिन में ओपीडी में देखने वाले मरीजों की संख्या 50 तक सीमित कर दी है. साथ ही ओपीडी में दिखने के लिए मरीजों को एक दिन पहले नंबर लगाना पड़ता है. हालाँकि एम्स प्रशासन ने कहा है कि चिकित्साकर्मियों में कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद में अस्पताल आने वाले कोरोना मरीजों के उपचार की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है. 



 

Find Us on Facebook

Trending News