कोरोना की वजह से गई जॉब, टीचर फुटपाथ पर दुकान लगा कर रहा है गुजारा ..

कोरोना की वजह से गई जॉब, टीचर फुटपाथ पर दुकान लगा कर रहा है गुजारा ..

DESK: कोरोना वायरस महामारी की वजह से दुनिया भर की आर्थिक हालत खराब हो गई है. बेरोजगारी का आलम यह है कि जो लोग एक समय में अच्छी नौकरी करते थे आज उन्हें दुकान लगाकर समान बेचना पड़ रहा है. जब से कोरोना वायरस ने दस्तक दी उसके बाद से ही कारखानें, स्कूल कॉलेज, कोचिंग संस्थान सब बंद हो गए. कई सारे लोगों को जॉब से निकाल दिया गया. दूसरी जगह जॉब मिल नहीं रही.ऐसे में परिवार का खर्चा चलाने के लिए हर किसी को अलग-अलग उपाय करने पड़ रहे हैं 

कुछ ऐसी ही कहानी है जितेन्द्र सिंह राठोड़ की. जितेन्द्र एक पढ़े लिखे इंसान हैं और एक प्राइवेट स्कूल में  टीचर का काम करते हैं. लेकिन कोरोना की वजह से स्कूल बंद हो जाने के बाद जितेन्द्र को नौकरी से निकाल दिया गया. जितेन्द्र ने पहले से जो कमा कर सेविंग्स की थी. उसमें कुछ दिन उनके परिवार का काम चला लेकिन फिर ऐसा वक्त आया जब जितेंन्द्र के सामने खाने पीने की समस्या होने लगी क्युंकि पैसे खत्म हो चुके थे जॉब भी जा चुकी थी.


परिवार का पेट चलाने के लिए जितेंन्द्र ने कई जगह जॉब की तलाश की , कई लोगों से मदद की गुहार भी लगाई लेकिन जब कुछ भी व्यवस्था नहीं हो पाया तब मजबूरन जितेंद्र को फुटपाथ पर कपड़ों की दुकान लगानी पड़ी. वह कहते हैं कि उनके पास इस काम का कोई अनुभव नहीं है लेकिन वह पूरी कोशिश कर रहे हैं कि कुछ कमाई हो जाए. वह यह भी कहते हैं कि इस दौर में देश का भविष्य निर्माण करने वाला टीचर ही खुद दिक्कतों से जूझ रहा है. बता दें कि कोरोनावायरस जब स्कूल बंद है तो कई टीचर की नौकरी जा चुकी है

मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले के सेंधवा के रहने वाले जितेंद्र सिंह राठौड़ एक प्राइवेट स्कूल में टीचर थे. बीते 10 12 वर्षों से ही प्राइवेट स्कूल में पढ़ा रहे हैं. कोरोना के कारण स्कूल बंद हो गया और अभी तक स्कूल शुरू नहीं हो पाया है जिस वजह से उन्हें घर में बैठना पड़ा. फिलहाल उनके सामने रोजी रोटी का संकट है

Find Us on Facebook

Trending News